डोकलाम: भारत और चीनी मीडिया का अलग-अलग राग

भारत, चीन इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारत और चीन के बीच डोकलाम पर बनी सहमति को लेकर दोनों देशों का मीडिया अलग-अलग सुर में बात रहे हैं.

भारत चीन और भूटान की सीमा से लगने वाले डोकलाम पर दोनों देशों के बीच पिछले कुछ महीनों से विवाद चल रहा था और अब समझौते के बाद भारत और चीन के मीडिया आउटलेट्स इसे अपने-अपने देशों की जीत बता रहे हैं.

भारत के मीडिया आउटलेट्स डोकलाम से सैनिकों की वापसी को 'नई दिल्ली की जीत' बता रहे हैं तो चीनी मीडिया ये कह रहा है कि 'अतिक्रमण हटाने के भारत के फैसले से चीन खुश है.'

'चीन यथास्थिति बदलने की कोशिश कर रहा है'

डोकलाम मामले में कौन जीता, कौन हारा?

डोकलाम हिमालय क्षेत्र का वो पठारी इलाका है जिसे लेकर जून के महीने में उस समय विवाद खड़ा हो गया था जब सड़क निर्माण की चीन की कोशिश को भारत ने सैनिक भेजकर रोक दिया था.

चीन और भूटान के बीच इस इलाके को लेकर विवाद है और भारत डोकलाम पर भूटान के दावे का समर्थन करता है.

सोमवार को भारत और चीन ने इस बात की पुष्टि की कि डोकलाम पर जारी विवाद को ख़त्म करने पर उनके बीच सहमति बन गई है.

डोकलाम विवाद पर चीन ने क्या दावा किया?

भारत-चीन: क्या मुक़ाबला अब भी जारी है?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अंतरिक्ष में चीन और भारत की होड़

भारतीय मीडिया: आख़िरकार झुक गया चीन

भारत में चल रही ख़बरों में ये कहा जा रहा है कि डोकलाम के मसले पर भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत हुई है और कुछ ने इसे चीन के लिए शर्मिंदगी बताया है.

हिंदी अख़बार अमर उजाला ने अपनी वेबसाइट पर सुर्खी लगाई, आख़िरकार भारत के सामने झुका चीन, डोकलाम से सैनिक हटाने पर हुआ तैयार.

अंग्रेजी अख़बार इकोनॉमिक टाइम्स ने लिखा, चीन गरजने वाला वो बादल है जो बरस नहीं सकता.

अख़बार कहता है, "चीन ने भारत को डराने की तमाम कोशिशें की, युद्ध छेड़ने की धमकी से लेकर विद्रोह भड़काने तक. छोटे देशों को इससे संदेश गया कि चीन अपनी धमकी को हकीकत में बदलने के लिए कोई ठोस कदम उठाने वाला नहीं है."

कुछ रिपोर्टों में इस ओर भी संकेत किया गया है कि ब्रिक्स देशों की बैठक 3 से 5 सितंबर के बीच चीन में होने वाली है और शायद इसी वजह से दोनों देश समझौते के लिए तैयार हुए हैं.

'अगर चीन भारत में घुसे तो तहलका मच जाएगा'

डोकलाम से सेना हटाने को तैयार भारत और चीन

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
पाकिस्तान चीन इकोनॉमिक कॉरिडोर से प्रदूषण बढ़ेगा

अंग्रेज़ी ख़बरों की न्यूज़ वेबसाइट इंडिया टुडे ने लिखा है, ब्रिक्स सम्मेलन की वजह से चीन अपने रुख पर सोचने के लिए विवश हुआ. ब्रिक्स सम्मेलन की कामयाबी को लेकर सवाल खड़े होने शुरू हो गए थे.

हालांकि कुछ मीडिया आउटलेट्स ने चीन के दावे का भी जिक्र किया है. चीन ने बयान जारी कर कहा कि भारत ने विवादित इलाके से अपने सैनिक हटा लिए हैं.

इंग्लिश न्यूज़ वेबसाइट हिंदुस्तान टाइम्स ने लिखा है, एक ओर भारत कह रहा है कि सैनिकों की वापसी हो रही है जबकि चीन का कहना है कि वह उस इलाके में अपनी गश्त जारी रखेगा.

चीनी सेना में भर्ती होने की शर्तें: 'कंप्यूटर गेम और हस्तमैथुन से दूर रहें'

भारत कहता कुछ है, करता कुछ है: चीन

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
नए सिल्क रूट पर दुनिया की चिंता

चीनी मीडिया: भारत ने अतिक्रमण हटाया

चीन के सरकारी मीडिया आउटलेट्स अपने विदेश मंत्रालय के हवाले से इस बात को ख़ास तौर पर बता रहे हैं कि डोकलाम से सैनिकों की वापसी के भारत के फैसले से चीन खुश है.

सरकारी समाचार एजेंसी शिनहुआ के मुताबिक चीन ने मौके पर जाकर जायजा लिया और पुष्टि की कि भारत उस इलाके से अपने सैनिक और साज़ोसामान हटा रहा है.

चीन के सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स का कहना है कि डोकलाम को लेकर शांतिपूर्ण समझौते तक पहुंचने में चीन ने एक जिम्मेदार ताकत के तौर पर बर्ताव किया.

अख़बार ने अपनी अंग्रेज़ी वेबसाइट पर लिखा है, डोकलाम पठार पर चीनी इलाके में अतिक्रमण करने वाले सैनिकों को भारत ने हटा लिया है.

भारत-चीन सीमा पर गोलियां क्यों नहीं चलतीं?

डोकलाम विवाद: राजनाथ सिंह पर भड़की चीनी जनता

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
सिक्किम को भारत का हिस्सा नहीं बनाना चाहते थे चोग्याल

चीन की सोशल मीडिया वीबो पर भी डोकलाम का जिक्र जोर-शोर से है और हज़ारों लोग इस मुद्दे पर कॉमेंट्स कर रहे हैं.

एक वीबो यूजर ने लिखा है भारतीय सैनिकों को डोकलाम से हटाने का काम बिना युद्ध के पूरा हो गया है.

कुछ यूजर्स ने चीन से वहां सड़क निर्माण का काम जारी रखने की अपील की है.

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की ख़बरें ट्विटर और फेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे