'जो आप बोएंगे, वही काटेंगे' : उत्तर कोरिया-अमरीका तनातनी पर चीन

ट्रंप, जिनपिंग और किंग जोंग इमेज कॉपीरइट Getty Images

उत्तर कोरिया और अमरीका के बीच तनातनी में चीन की भूमिका क्या होगी, इस पर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सवाल उठ रहे हैं.

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने बुधवार को एक ट्वीट के जरिए साफ़ कर दिया कि उत्तर कोरिया की दागी मिसाइल का जवाब बातचीत नहीं है.

इसके बाद चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ छुनइंग ने मसले पर देश की स्थिति स्पष्ट की.

मंत्रालय की ओर से जारी बयान में छुनइंग ने कहा कि जिन देशों ने यह स्थिति पैदा की है उन्हें ही इसका समाधान खोजना चाहिए.

उन्होंने कहा, "जो आप बोएंगे, वही काटेंगे, चीन इस पर विश्वास करता है. जिन्होंने ये स्थिति पैदा की है, उन्हें ही इसका हल तलाशना चाहिए."

इमेज कॉपीरइट MINISTRY OF FOREIGN AFFAIRS OF CHINA
Image caption हुआ छुनइंग

चीन का जवाब

उत्तर कोरिया के विवाद पर चीनी प्रवक्ता ने कहा, "मैं इस बात पर ज़ोर देना चाहती हूं कि चीन ने कोरिया से परमाणु हथियारों को ख़त्म करने पर बात कही है. सुरक्षा परिषद् के प्रस्तावों के तहत हम काम कर रहे हैं. इस मामले में चीन की भूमिका निष्पक्ष है और हमलोग सकारात्मक तरीके से प्रयास कर रहे हैं."

चीन की भूमिका को लेकर सवाल उठाने वाले देशों पर उन्होंने कहा, "हमने देखा है कि वे लोग अपने फायदे के लिए दूसरों पर उंगली उठाते हैं. लेकिन मैं चीन पर दबाव बनाने वाले तमाम देशों से ये पूछना चाहती हूं कि क्या वे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों को सही तरीके से पालन कर रहे हैं?"

उन्होंने उत्तर कोरिया के परमाणु मसले के समाधान के लिए संबंधित देशों को क़दम उठाने को कहा.

अगर उत्तर कोरिया से युद्ध हुआ तो क्या हैं विकल्प

इमेज कॉपीरइट Getty Images

मसले का समाधान

छुनइंग ने कहा, "मसले का शांतिपूर्वक समाधान संबंधित देशों यानी पश्चिम और दक्षिण कोरिया और अमरीका के हाथों में है. वे लोग समाधान के लिए एक क़दम आगे तो बढ़ते हैं पर उसके बाद तीन क़दम पीछे चले जाते हैं. वे लोग मसले का समाधान ढूंढने में इच्छा ही नहीं जता रहे हैं. ऐसी स्थिति में दूसरों पर दवाब क्यों डाला जा रहा है."

उत्तर कोरिया के साथ कैसे रह पाएगी दुनिया

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सुरक्षा परिषद

उत्तर कोरिया पर मजबूत आर्थिक प्रतिबंध के सवाल पर हुआ छुनइंग ने कहा कि यह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के दायरे में आते हैं.

चीनी प्रवक्ता का कहना था, "हम परिषद के प्रस्तावों का अनुसरण करते हैं. उत्तर कोरिया मसले पर सुरक्षा परिषद की ओर से अधिक उपाय किए जाने चाहिए. हम किसी देश की एक तरफ़ा प्रतिबंध और शांति के मामले में दोहरी नीति का विरोध करते हैं."

मसले के सुलझाने में रूस के साथ चीन की क्या बातचीत चल रही है, इस सवाल पर उन्होंने कहा, "अंतर्राष्ट्रीय मसलों को सुलझाने, शांति कायम करने और उत्तर कोरिया में परमाणु हथियारों के समाधान के लिए दोनों देशों के समान लक्ष्य हैं. सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्य देशों का एक ही मत है."

हुआ छुनइंग ने कहा, "रूस चीन का महत्वपूर्ण पड़ोसी देश है. हमलोग शांति कायम करने के लिए मिलकर काम करेंगे. मुझे लगता है कि ब्रिक्स सम्मेलन में दोनों देश इस मसले पर बात करेंगे."

जापान के ऊपर मिसाइल सैन्य कार्रवाई का पहला कदम

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे