म्यांमार: रोहिंग्या विद्रोहियों ने की संघर्ष विराम की घोषणा

इमेज कॉपीरइट EPA

म्यांमार में रोहिंग्या मुस्लिम विद्रोहियों ने आज से एकतरफ़ा संघर्ष विराम का ऐलान किया है.

म्यांमार के पश्चिम में जारी मानवीय संकट को कम करने की दिशा में ये उठाया गया एक कदम है.

म्यांमार के सुरक्षा बलों पर आराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी के हमले के बाद दो हफ्तों से म्यांमार की सेना ने सशस्त्र अभियान चलाया हुआ है जिसके कारण करीब तीन लाख रोहिंग्या मुस्लिमों ने भागकर बांग्लादेश में शरण ली है.

रोहिंग्या विद्रोहियों ने म्यांमार की सेना से भी संघर्ष विराम मानने की अपील की है और मानवीय सहायता संगठनों से मदद का काम दोबारा शुरू करने की अपील की है.

'बांग्लादेश में रोहिंग्या मुस्लिमों की संख्या 2 लाख 70 हज़ार'

रोहिंग्या का बदला लेने को एकजुट हो रहे जिहादी

म्यांमार की सरकार के एक मंत्री ने बीबीसी को बताया कि कई रोहिंग्या मुस्लिम जो बांग्लादेश भाग गए हैं उन्हें वापस नहीं आने दिया जाएगा.

शरणार्थियों के लिए मदद की ज़रूरत

इमेज कॉपीरइट Getty Images

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक सहायता समूहों को म्यांमार से भागे रोहिंग्या मुस्लिमों की मदद के लिए सात करोड़ 70 लाख डॉलर की तत्काल ज़रूरत है.

बांग्लादेश के कॉक्स बाज़ार पहुंच रहे शरणार्थियों के लिए खाना, पानी, स्वास्थ्य सेवाओं की सख्त ज़रूरत है.

रोहिंग्या मुसलमानों का दर्द: 'हम फुटबॉल जैसे, हर जगह से लात खा रहे हैं'

जान बचाकर म्यांमार से बांग्लादेश भाग रहे हैं हिंदू

म्यांमार के अल्पसंख्यक समुदाय रोहिंग्या मुस्लिमों का कहना है कि म्यांमार की सेना और रखाइन बौद्ध उनके गांवों को जला रहे हैं. म्यांमार की सरकार इस आरोप को ख़ारिज करती है और कहती है कि सेना रोहिंग्या चरमपंथियों से लड़ रही है.

म्यांमार की सरकार की तरफ़ से अभी युद्धविराम पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

ज़मीनी सुरंग

इमेज कॉपीरइट AFP

शनिवार को एमनेस्ट इंटरनेश्नल समूह ने म्यांमार की सेना पर बांग्लादेश की सीमा पर ज़मीनी सुरंगें लगाने का आरोप लगाया.

बांग्लादेश सीमा सुरक्षा बल और सीमाई गांवों के लोगों ने भी बीबीसी को बताया कि सीमा पर म्यांमार के 100 से ज़्यादा सैनिकों को संभवत: ज़मीनी सुरंगे लगाते देखा गया है.

रोहिंग्या मुसलमानों के दुश्मन हैं बर्मा के ये 'बिन लादेन'

म्यांमार की सेना ने कहा कि हाल में कोई ज़मीनी सुरंग नहीं लगाई गईं.

रोहिंग्या संकट को लेकर म्यांमार की नेता आंग सान सू ची की चुप्पी की आलोचना हो रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे