'रोहिंग्या मुसलमानों पर म्यांमार की कार्रवाई जातीय नरसंहार'

रोहिंग्या शरणार्थी इमेज कॉपीरइट Reuters

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार संस्था के प्रमुख ने कहा है कि म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों को निशाना बनाकर की जा रही सुरक्षा कार्रवाई 'जातीय नरसंहार का एक सटीक उदाहरण' है.

इसके साथ ही संस्था प्रमुख ज़ईद राद अल हुसैन ने म्यांमार से रखाइन प्रांत में 'क्रूर सैन्य कार्रवाई' को ख़त्म करने की अपील की.

पिछले महीने शुरू हुई हिंसा के बाद बांग्लादेश से तीन लाख से भी ज़्यादा रोहिंग्या मुसलमान पलायन कर चुके हैं.

रोहिंग्या संकट पर क्या कह रही है म्यांमार सरकार?

कौन है रोहिंग्या मुसलमानों का ये 'रखवाला'

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
क्या नोबेल वापस करेंगी आंग सान सू ची?

सेना का इनकार

म्यांमार की सेना का कहना है कि उसकी कार्रवाई केवल रोहिंग्या चरमपंथियों के ख़िलाफ़ है.

आम लोगों को किसी तरह से निशाना बनाने के आरोप से भी सेना इनकार करती है.

25 अगस्त को रखाइन के उत्तरी इलाके में रोहिंग्या चरमपंथियों ने पुलिस चौकियों को निशाना बनाया. इस हमले में 12 सुरक्षा कर्मी मारे गए थे.

इस घटना के बाद से ही वहां हिंसा भड़क गई और रोहिंग्या मुसलमानों को बांग्लादेश की ओर मजबूरन पलायन करना पड़ा.

क्या रोहिंग्या आई-कार्ड लेकर बांग्लादेश आ रहे हैं?

रोहिंग्या संकट पर भारत का रुख़ क्या है?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
रोहिंग्या मुसलमान म्यांमार से भागकर बांग्लादेश में क्यों शरण ले रहे हैं?

रोहिंग्या शरणार्थी

रोहिंग्या शरणार्थियों का कहना है कि म्यांमार की सेना रखाइन में उनके ख़िलाफ़ बर्बर अभियान चला रही है, गांव जलाए जा रहे हैं, उन्हें वहां से खदेड़ने के लिए आम लोगों पर हमले किए जा रहे हैं.

म्यांमार का बौद्ध बहुल रखाइन प्रांत बांग्लादेश की सीमा से लगता है और यहां रोहिंग्या मुसलमान अल्पसंख्यक हैं.

यूनाइटेड नेशन हाई कमिश्नर फ़ॉर ह्यूमन राइट्स के प्रमुख ज़ईद राद अल हुसैन ने कहा कि रखाइन में मौजूदा कार्रवाई साफ़ तौर पर गैरवाजिब है.

रोहिंग्या संकट: क्या मोदी हिंदू कार्ड खेल रहे हैं?

रोहिंग्या मुसलमान देश के लिए ख़तरा हैं: गोविंदाचार्य

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
अपना सब कुछ छोड़कर क्यों भाग रहे हैं ये लोग?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे