उत्तर कोरिया के मिसाइल परीक्षण पर महाशक्तियां बंटीं

इमेज कॉपीरइट Reuters

उत्तर कोरिया के हालिया मिसाइल परीक्षण ने विश्व की महाशक्तियों के बीच दरार डाल दी है.

कुछ दिन पहले ही उत्तर कोरिया पर संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध को लेकर ये महाशक्तियां एकजुट थीं.

अमरीका ने कहा है कि उत्तर कोरिया को समझाने की ज़िम्मेदारी रूस और चीन की है. चीन उत्तर कोरिया का मुख्य सहयोगी है जबकि रूस के रिश्ते प्योंगयांग से बहुत अच्छे हैं.

लेकिन चीन ने कहा है कि अमरीका अपनी ज़िम्मेदारी से बचना चाहता है जबकि रूस ने अमरीका की उकसाऊ बयानबाज़ी की निंदा की है.

जापान की ओर छोड़ी गई मिसाइल की इतनी रेंज है कि वो अमरीकी इलाक़े गुआम तक मार कर सकती है.

अगर युद्ध हुआ तो कितना ख़तरनाक होगा उत्तर कोरिया?

उत्तर कोरिया ने जापान की ओर फिर दागी मिसाइल

उकसावे वाली कार्रवाई

दक्षिण कोरिया की सेना के मुताबिक़, इस मिसाइल ने आसमान में 770 किलोमीटर की ऊंचाई हासिल की और जापान के उत्तरी द्वीप होक्काइडो के ऊपर से गुजरती हुई 3,700 किलोमीटर की दूरी तय की.

इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्ट्रेटजिक स्टडीज़ के जोसफ़ डेम्पसे ने ट्वीट कर कहा कि उत्तर कोरिया की ये सबसे अधिक लंबी दूरी तय करने वाली मिसाइल है.

अमरीका के मुख्य सहयोगी और उत्तर कोरिया के पड़ोसी देश दक्षिण कोरिया ने कुछ ही मिनटों बाद दो मिसाइल छोड़ी.

जापानी प्रधानमंत्री शिंज़ो आबे ने कहा है कि उनका देश इस तरह के उकसावे वाली कार्रवाईयों को बर्दाश्त नहीं करेगा. अमरीका, चीन और रूस ने भी इसकी निंदा की है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

बातचीत पर ज़ोर

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और फ़्रांसीसी राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों ने कहा है कि संकट को कम करने के लिए प्योंगयांग से सीधी बातचीत करनी चाहिए.

बीते सोमवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्य देशों ने, सितम्बर की शुरुआत में परमाणु परीक्षण करने के ख़िलाफ़ उत्तर कोरिया को किए जाने वाले तेल निर्यात और कपड़ा निर्यात पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया.

हालांकि अमरीकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने साफ़ किया है कि वॉशिंगटन का मानना है कि अब प्योंगयांग को नियंत्रण में लाने की ज़िम्मेदारी चीन और रूस पर है.

उत्तर कोरिया के हमलों से बच सकेगा अमरीका?

अमरीका ने उ. कोरिया के मिसाइल टेस्ट की पुष्टि की

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)