उत्तर कोरिया से बातचीत वक़्त की बर्बादी: डोनल्ड ट्रंप

ट्रंप, किम जोंग उन इमेज कॉपीरइट Reuters

"अमरीकी विदेश मंत्री उत्तर कोरिया से उसके परमाणु कार्यक्रम के मुद्दे पर बातचीत करके अपना वक़्त बर्बाद कर रहे हैं." ये बात ख़ुद राष्ट्रपति ट्रंप ने अपने विदेश मंत्री से कही है.

'प्योंगयांग और वॉशिंगटन के बीच बातचीत हो रही है', जैसे ही ये ख़बर अमरीका में आई, ट्रंप ने ट्वीट किया, "अपनी ऊर्जा बचाओ रेक्स, जो कुछ किया जाना ज़रूरी है, हम वो करेंगे."

रेक्स टिलरसन ने उत्तर कोरिया से वार्ता को लेकर शनिवार को ये बयान दिया था कि दोनों देशों के बीच सीधा संवाद हो रहा है. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि बातचीत में किम जोंग उन प्रशासन की दिलचस्पी बहुत कम है.

क्या होगा अगर दक्षिण कोरिया भी बनाना शुरू कर दे एटम बम?

'सीधे संपर्क' में हैं उत्तर कोरिया और अमरीका?

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
युद्ध हुआ तो क्या होगा उत्तर कोरिया का हाल?

हथियार कार्यक्रम

हाल के महीनों में दोनों देश भड़काऊ बयानों और गर्मागर्म कहासुनी में शामिल रहे हैं.

एक ओर जहां अमरीका चाहता है कि उत्तर कोरिया अपने हथियार कार्यक्रम पर लगाम लगाए, वहीं किम जोंग उन की हुकूमत ने हाल के दिनों में लगातार मिसाइल परीक्षणों के अलावा छोटे आकार के हाइड्रोजन बम के सफल परीक्षण का भी दावा किया है.

उत्तर कोरिया के मुताबिक़ ये हाइड्रोजन बम लंबी दूरी तक मार करने वाली मिसाइलों पर फ़िट किए जा सकते हैं.

लेकिन इस बीच दोनों देशों के बीच बातचीत की जो भी कोशिशें हुई हैं, वो ट्रंप के अपने रवैये की वजह से भी किसी सकारात्मक नतीज़ें तक नहीं पहुंच सकी हैं.

उत्तर कोरिया पर क्यों नहीं होता प्रतिबंधों का असर?

उत्तर कोरिया में कैसा है आम जनजीवन

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
उत्तर कोरिया पर यूएन में क्या बोले ट्रंप

लिटिल रॉकेटमैन

रविवार को राष्ट्रपति ट्रंप ने उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग-उन का ज़िक्र करते हुए ट्वीट किया, "मैंने अपने बेहतरीन विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन से कहा है कि वे उस लिटिल रॉकेटमैन से बातचीत की कोशिशों में अपना वक़्त बर्बाद कर रहे हैं."

किम जोंग उन का ज़िक्र ट्रंप रॉकेट वाले छोटे आदमी के तौर पर करते हैं.

हालांकि अपने ट्वीट में ट्रंप ने इस बात का तफ़सील से कोई ज़िक्र नहीं किया कि इसका क्या मतलब है कि "जो कुछ किया जाना ज़रूरी है, हम वो करेंगे."

बाद में एक सीनियर अमरीकी अधिकारी ने ट्रंप के बयान का स्पष्टीकरण देते हुए समाचार एजेंसी रॉयटर्स से कहा, "ऐेसे वक़्त में जब उत्तर कोरिया अपने भड़काऊ रवैये पर बरकरार है, राष्ट्रपति को नहीं लगता कि उनके साथ बातचीत का ये सही समय है."

उत्तर कोरिया का वो गुप्त शहर जिससे है ख़ौफ़?

उत्तर कोरिया ने कब-कब कहा, 'ये युद्ध की घोषणा है'

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
ये लोग उत्तर कोरिया से नहीं डरते

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)