वेदांता के ख़िलाफ़ ब्रितानी कोर्ट जाएंगे ज़ांबिया के गांववाले

इमेज कॉपीरइट REUTERS/Danish Siddiqui
Image caption [फाइल फ़ोटो]

लंदन की अपील कोर्ट ने ज़ांबिया के क़रीब दो हज़ार नागरिकों को इसकी इजाज़त दे दी है कि वो बहुराष्ट्रीय खनन कंपनी वेदांता के ख़िलाफ़ ब्रितानी कोर्ट में केस लड़ सकते हैं.

वेदांता का मुख्यालय लंदन में हैं और ये कंपनी अपनी सब्सिडेरी कोनकोल कॉपर माइन्स के ज़रिए ज़ांबिया में खनन का काम कर रही है.

वेदांता ने निचली अदालत के इसी साल मई में दिए गए एक फैसले के ख़िलाफ़ अपील कोर्ट का रुख़ किया था. अपील कोर्ट ने कंपनी की अपील को खारिज कर दिया है.

वेदांता तो चली गई पर आदिवासियों की चुनौतियां बरक़रार हैं

‘राहुल गांधी ने बनाया वेदांता को सियासी मुद्दा’

Image caption गांववालों की तरफ से मामले की पैरवी कर रही लॉ फर्म ली डे का ट्वीट

वेदांता का कहना था कि चूंकि यह मामला ज़ांबिया से जुड़ा है मामले की सुनवाई ज़ांबिया में की जानी चाहिए.

ज़ांबिया के करीब दो हज़ार नागरिकों (गांववालों) का आरोप है कि कंपनी के काम के कारण उनके पर्यावरण और ज़मीनों को नुक़सान पहुंचा है.

गांववालों के अनुसार नचांगा कॉपर माइन के कारण उनके इलाके का पानी प्रदूषित हो गया है और इसका सीधा असर उनकी ज़मीन और जीविका पर पड़ा है.

वेदांता को झटका, ग्राम सभा ने ठुकराई खनन की अर्ज़ी

इमेज कॉपीरइट REUTERS/Barbara Lewis

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक इस फैसले के बाद अब दूसरे देश में किए जाने वाले काम के लिए अन्य बहुराष्ट्रीय कंपनियों के ख़िलाफ़ लंदन की अदालत में मामला लाए जा सकते की संभावना बढ़ गई है.

वेदांता का कहना है कि वो अपील कोर्ट के फ़ैसले के ख़िलाफ़ ब्रितानी सुप्रीम कोर्ट में जाएगी.

अफ्रीका में बसा चारों तरफ से दूसरे देशों के घिरा ज़ांबिया इस प्रायद्वीप में तांबा का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)