'शहीद की तरह मरना चाहता था' ओसामा बिन लादेन का 12 साल का पोता

ओसामा इमेज कॉपीरइट Getty Images

चरमपंथी संगठन अल-क़ायदा के एक जिहादी समर्थक ने ओसामा बिन लादेन के 12 साल के पोते ओसामा हमज़ा बिन लादेन की हत्या की सूचना दी है.

अल-क़ायदा के ऑनलाइन समर्थकों में इससे जुड़े एक पत्र को शेयर किया जा रहा है जिसे ओसामा बिन लादेन के बेटे हमज़ा बिन लादेन द्वारा लिखा हुआ बताया जा रहा है.

उस रात लादेन के साथ मौजूद पत्नी ने बताई कहानी

ओसामा बिन लादेन के वो आख़िरी घंटे

एक हाई-प्रोफ़ाइल ऑन-लाइन जिहादी अल-वसीक़ बिल्लाह ने 31 दिसंबर को मैसेज़िंग ऐप टेलिग्राम पर ओसामा बिन लादेन के पोते की मौत की ख़बर दी थी.

इसके बाद से हाई प्रोफ़ाइल अल-क़ायदा इनसाइडर शायबत-अल-हुकमा समेत कई अन्य प्रमुख अल-क़ायदा समर्थकों ने भी टेलिग्राम पर ये ख़बर शेयर की है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अफ़ग़ानिस्तान में खींची गई ओसामा बिन लादेन के एक बेटे के बचपन की फ़ाइल तस्वीर

अल-वसीक़ ने ओसामा बिन लादेन के पोते की हत्या कैसे हुई और कहां हुई, इसके बारे में कोई जानकारी नहीं दी. लेकिन एक दूसरे अल-क़ायदा समर्थक अबु-ख़ल्लाद अल-मुहनदीस ने कहा है कि इस बच्चे की हत्या रमजान के महीने हुई थी जो 26 मई से लेकर 24 जून तक मनाया गया था.

अबु-ख़ल्लाद अल-मुहनदीस ने इस बच्चे की मां और परिवार को लिखा गया एक पत्र भी जारी किया है जिसे कथित तौर पर हमज़ा बिन लादेन द्वारा लिखा गया बताया जा रहा है.

इस पत्र में हमज़ा बिन लादेन ने कहा है कि ये बच्चा हमेशा एक शहीद की तरह मरना चाहता था और साल 2011 में ओसामा बिन लादेन की मौत के बाद काफ़ी दुखी था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption बेटे मोहम्मद बिन लादेन की शादी में शरीक होते हुए ओसामा बिन लादेन

हमज़ा बिन लादेन ने कथित तौर पर अपने भतीजों को भी अपने ओसामा बिन लादेन, ओसामा हमज़ा बिन लादेन और अपने भाइयों की हत्या का बदला लेने के लिए जिहाद छेड़ने की अपील की है.

अल-वतीक़ लंबे समय से एक ऑनलाइन जेहादी है और अल-क़ायदा से जुड़ी हुई इसकी जानकारियों को भरोसे लायक माना जाता है.

(बीबीसी मॉनिटरिंग दुनिया भर के टीवी, रेडियो, वेब और प्रिंट माध्यमों में प्रकाशित होने वाली ख़बरों पर रिपोर्टिंग और विश्लेषण करता है. आप बीबीसी मॉनिटरिंग की ख़बरें ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी पढ़ सकते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे