बार बार छप्पर फाड़ धनवर्षा

 शनिवार, 29 सितंबर, 2012 को 08:47 IST तक के समाचार
लॉटरी

दुनिया के कई देशों में लॉटरी पर प्रतिबंध है.

कहते हैं कि देने वाला जब देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है. नॉर्वे के एक परिवार पर ये कहावत बिल्कुल सही बैठती है क्योंकि पिछले छह साल में उसकी तीन बार लॉटरी जो लग चुकी है.

पिछले दिनों 19 वर्षीय टोर्ड ऑक्सनेस परिवार के ऐसे तीसरे सदस्य बन गए जिन्होंने राष्ट्रीय लॉटरी का जैकपॉट अपने नाम किया है. इससे पहले उनकी बहन हेजे जीनेट और पिता लाइफ की भी लॉटरी लग चुकी है.

ये परिवार अब तक लॉटरी के जरिए तीस लाख यूरो यानी 20 करोड़ रुपये जीत चुका है. इनमें टोर्ड ने एक करोड़ बीस लाख क्रोनर (16 लाख यूरो), हेजे ने 82 लाख क्रोनर और लीफ ने 41 लाख क्रोनर जीते हैं.

नौकरी करते रहेंगे

"मैं बहन का उधार चुकाऊंगा जिन्होंने मुझे ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए पैसे दिए थे."

टोर्ड, लॉटरी के विजेता

हेजे का कहना है कि जब भी लकी ड्रॉ होता है, तब या तो वो गर्भवती होती है या उन्होंने बच्चे को जन्म दिया होता है. हेजे ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि उनके जिन तीन भाइयों ने अभी तक लॉटरी ने जीती है वे उनसे कम से कम दस बच्चे पैदा करने को बोल रहे हैं.

वो कहती हैं, “बच्चे पैदा करना हमेशा अच्छा लगता है लेकिन बच्चे किसी के कहने पर थोड़े ही पैदा होते हैं.”

बहरहाल टोर्ड का कहना है कि लॉटरी जीतने के बावजूद वो अपनी टेक्नीशियन की नौकरी नहीं छोड़ेंगे. लेकिन पैसा मिलने के बाद वो एक या दो अपार्टमेंट खरीदना चाहते हैं ताकि अपना भविष्य सुरक्षित कर सकें.

साथ ही वे एक नया कंप्यूटर, चश्मे और कुछ कपड़े खरीदेंगे. उनका कहना है, “मैं बहन का उधार चुकाऊंगा जिन्होंने मुझे ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए पैसे दिए थे.”

नॉर्स्क टिपिंग एएस लॉटरी कंपनी ने समाचार एजेंसी एपी को बताया कि उन्होंने ऐसे तो कई मामले देखे हैं जब किसी एक व्यक्ति ने तीन बार लॉटरी जीती हो लेकिन ऐसा पहले कभी नहीं देखा कि किसी परिवार के तीन सदस्यों ने लॉटरी जीती हो.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.