वलेरी ट्रार्यवेलर ने मानी ग़लती

वलेरी ट्रार्यवेलर (बाईं ओर) ने सेयोलीन रॉयल (दाईं ओर)
Image caption वलेरी ट्रार्यवेलर (बाईं ओर) ने सेयोलीन रॉयल (दाईं ओर) के विरोधी के पक्ष में ट्वीट किया था.

फ़्रांसिसी राष्ट्रपति फ़्रांस्वा ओलांद की महिला मित्र वलेरी ट्रार्यवेलर ने स्वीकार किया है कि उन्होंने ओलांद की पूर्व पार्टनर के ख़िलाफ़ ट्वीट भेजने की ग़लती की है.

ट्रार्यवेलर ने जून में हुए संसदीय चुनावों के दौरान सेयोलीन रॉयल के विरोधी के समर्थन में ट्वीट किया था.

रॉयल साल 2007 में सोशलिस्ट पार्टी की ओर राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार थीं और वे फ़्रांस्वा ओलांद के चार बच्चों की मां हैं.

ट्रार्यवेलर ने एक फ़्रांसिसी अख़बार को बताया है कि उन्हें अपने इस क़दम पर खेद है.

ट्रार्यवेलर ने अख़बार को बताया, “ मैं इस ग़लती पर खेद व्यक्ति करती हूं. मुझे इस बात का अहसास नहीं था कि मैं अब आम नागिरक नहीं हूं. ऐसा दोबारा कभी नहीं होगा. ”

फ़्रांस के सरकारी प्रवक्ता नजात वलूद-बेल्कासेम ने उनके बयान का स्वागत करते हुए समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया, “ उनको इस बात श्रेय दिया जाना चाहिए कि उन्होंने खेद व्यक्त किया है.”

जून में हुए संसदीय चुनावों के दौरान ट्रार्यवेलर ने रॉयल के प्रतिद्वंद्वी ओलिविएर फ़ालोर्नी के समर्थन में ट्वीट किया था. उनके इस क़दम से हाल ही में राष्ट्रपति चुने गए ओलांद की किरकिरी हुई थी.

प्रतिस्पर्धा?

राष्ट्रपति फ़्रांस्वा ओलांद ने सार्वजनिक रूप से रॉयल की उम्मीदवारी का समर्थन किया था लेकिन वे चुनाव हार गई थीं.

राष्ट्रपति ने हाल ही में पत्रकारों को बताया था कि उनके और ट्रार्यवेलर के बीच ट्वीट के अलावा हर मुद्दे पर सहमति है.

पेरिस में बीबीसी संवाददाता क्रिश्चियन फ़्रेसर के अनुसार अरसे से इन दोनों महिलाओं के बीच प्रतिस्पर्धा की अटकलें लगती रही हैं.

रॉयल ने साल 2007 में सोशलिस्ट पार्टी की ओर से निकोला सार्कोज़ी के ख़िलाफ़ राष्ट्रपति का चुनाव लड़ा था लेकिन वो हार गई थीं.

ट्रार्यवेलर एक पूर्व राजनीतिक रिपोर्टर हैं.

फ़्रांसिसी अख़बार को दिए इंटरव्यू में ट्रायवेलर ने कहा कि वे उस साप्ताहिक पत्रिका में काम करती रहेंगी जहां कला पर उनका एक कॉलम छपता है. लेकिन उन्होंने टीवी पर किसी कार्यक्रम का एंकर नहीं बनेंगी.

उन्होंने कहा, “मैं समझती हूं कि राष्ट्रपति का पार्टनर होना और किसी टीवी चैनल में काम करना दिक्कत का काम हो सकता है. इससे कुछ लोगों को शक भी हो सकता है. ”