अबू हमज़ा को अमरीका के हवाले किया जाएगा

 शुक्रवार, 5 अक्तूबर, 2012 को 20:35 IST तक के समाचार
अबु हमज़ा

अबु हमज़ा का अमरीका प्रत्यर्पण काफी समय से लंबित है

लंदन हाई कोर्ट ने लंबे समय से जारी कानूनी लड़ाई को खत्म करते हुए व्यवस्था दी है कि मौलवी अबू हमज़ा और चार अन्य संदिग्ध चरमपंथियों को अमरीका प्रत्यर्पित किया जाना चाहिए ताकि उनके खिलाफ चरमपंथ के आरोप में मुकदमा चलाया जा सके.

मौलवी अबू हमज़ा के अलावा ये चार अन्य संदिग्ध चरमपंथी बाबर अहमद, सैयद तल्हा अहसान, अब्दुल बारी और खालिद अल फवाज़ हैं.

वे इस बात की कोई वजह पेश नहीं कर सके कि उन्हें अमरीका प्रत्यर्पित क्यों नहीं करना चाहिए.

यूरोपीय कोर्ट ऑफ ह्यूमन राइट्स ने इन सभी के अमरीका प्रत्यर्पण के लिए ब्रिटेन की अदालत का समर्थन किया है.

खराब तबीयत का हवाला

गृह मंत्रालय का कहना है कि वो इन सभी को जल्द से जल्द प्रत्यर्पित करना चाहता है.

लंदन हाई कोर्ट के जस्टिस सर जॉन थॉमस और जस्टिस ओस्ली का कहना है कि उनका ये फैसला प्रत्यर्पण प्रणाली के सुचारू संचालन की खातिर आम लोगों के हित में है.

अदालत में पढ़े गए जजों के फैसले में कहा गया है कि इन लोगों को जल्द अमरीका के हवाले किया जा सकता है.

अबू हमज़ा के वकीलों ने उनकी तबीयत का हवाला देते हुए तर्क दिया कि वो मुकदमे का सामना करने की स्थिति में नहीं हैं.

इस तर्क पर जजों ने कहा, ''उनके खिलाफ जितनी जल्दी मुकदमा शुरू होगा, उतना अच्छा होगा.''

जजों ने हमज़ा की उस अपील को भी खारिज कर दिया, जिसमें उनके प्रत्यर्पण में विलंब करने की बात कही गई थी ताकि वो एमआरआई ब्रेन स्कैनिंग करा सकें.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.