मैक्सिको के माफिया 'जल्लाद' की मौत

Image caption हेरिबर्टो लाजकैनो 'जल्लाद' के नाम से कुख्यात थे.

मेक्सिको के राष्ट्रपति फेलिप कालड्रॉन ने मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले गिरोह जीटस कार्टल के सरगना हेरिबर्टो लाजकैनो को मारे जाने पर के लिए देश के नौसैनिकों की तारीफ की है.

हेरिबर्टो लाजकैनो 'जल्लाद' के नाम से कुख्यात थे.

नौसेना का कहना है कि फिंगर प्रिंट परीक्षण से इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि मृतक हेरिबर्टो लाजकैनो ही थे.

हेरिबर्टो लाजकैनो रविवार को नौसैनिकों के साथ एक मुठभेड़ में मारे गए , लेकिन बाद में उनका शव शवगृह से चोरी हो गया. उसे कुछ हथियार बंद लोग अपने साथ ले गए थे.

बाद में अधिकारियों ने स्वीकार किया कि उनके सैनिक ही शव को ले गए.

उनका कहना है फारेंसिक जाँच में इस बात की पुष्टि हुई है कि मृतक माफिया सरगना हेरिबर्टो लाजकैनो ही थे.

'जल्लाद'

राष्ट्रपति फेलिप कालड्रॉन ने बताया कि मादक पदार्थों के तस्कर हेरिबर्टो लाजकैनो को उस समय मारा गया जब उन्होंने अपनी गिरफ्तारी का विरोध किया.

हेरिबर्टो लाजकैनो कथित रुप से सामूहिक हत्याओं के लिए कुख्यात रहे है.

छह साल पहले मैक्सिको में राष्ट्रपति ने सेना को मादक पदार्थो की तस्करी करने वाले गिरोहों के खिलाफ कारवाई शुरु करने की अनुमति दी थी.

राष्ट्रपति का कहना है कि अब तक देश में 25 से अधिक खतरनाक सरगना या तो मारे जा चुके हैं या फिर गिरफ्तार किए जा चुके हैं.

संबंधित समाचार