ओबामा की कमियाँ बाइडन ने दूर कीं

 शुक्रवार, 12 अक्तूबर, 2012 को 09:19 IST तक के समाचार
अमरीका

रायन के खिलाफ काफी नियंत्रण में दिखे बाइडन

उप राष्ट्रपति के पद के लिए रिपब्लिकन पार्टी के उमीदवार पॉल रायन और डेमोक्रेटिक पार्टी के उमीदवार जो बाइडन के बीच बहस एक तरह से बराबरी पर खत्म हुई है. हालांकि इसके बावजूद बाइडन पिछले हफ्ते अमरीकी राष्ट्रपति पद की बहस में पिछड़े बराक ओबामा के लिए भरपाई करने में सफल रहे.

पिछले हफ्ते हुई बहस के बाद विशेषज्ञों ने राय दी थी कि बाइडन अपने प्रतिद्वदी मिट रोमनी से पिछड़ गए हैं.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और उप राष्ट्रपति जो बाइडन के बीच काफी अच्छी दोस्ती है. जो बाइडन अपने राष्ट्रपति क़ी तारीफ़ करते नहीं थकते. लेकिन 11 अक्टूबर क़ी शाम को इस बहस में बराक ओबामा को अपने दोस्त क़ी सब से अधिक ज़रुरत थी.

रायन के साथ डेढ़ घंटे तक चली बहस के दौरान जो बाइडन पर भारी दबाव था. दबाव इस बात का था कि वे बहस में इतना अच्छा प्रदर्शन करें कि राष्ट्रपति ओबामा को 6 नवंबर के चुनाव में मदद मिल सके.

दूसरी तरफ पॉल रायन को 90 मिनट में ये साबित करना था कि अगर मिट रोमनी राष्ट्रपति पद के चुनाव में जीते और खुदा न करे जीत के बाद उनकी मौत हो जाती है तो वो एक काबिल राष्ट्रपति साबित होंगे.

लीबिया से शुरुआत

बहस की शुरुआत लीबिया के शहर बिन गाज़ी में अमरीकी दूतावास पर हुए हमले के मुद्दे से हुई. शुरू में दोनों उमीदवारों के बीच जोश क़ी कमी नज़र आ रही थी. लेकिन जैसे -जैसे बहस आगे बढ़ी, दोनों नेताओं का जोश बढ़ता गया. इससे बहस में जान आई और दोनों ने एक दुसरे से हर मुद्दे पर असहमति दिखाई.

अंतरराष्ट्रीय मुद्दों में जो बाइडन आत्मविश्वास के साथ बोले.जबकि पॉल रायन ने आर्थिक मुद्दों पर डट कर अपनी बात रखी.

नियंत्रण में थे बाइडन

तो क्या दोनों उमीदवार अपने मकसद में कामयाब हुए? इस पर विशेषज्ञों क़ी राय का इंतज़ार है. लेकिन टीवी पर इस बहस को देखने वाले करोड़ों अमरीकियों ने ये ज़रूर महसूस किया होगा कि जो बाइडन पॉल रायन की तुलना घरेलु और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर अधिक कंट्रोल में नज़र आये.

उन्होंने कई सवालों पर पॉल रयान को टोका और अपना पक्ष मुस्कुराकर रखा. पूरी बहस के दौरान पॉल रायन काफी गंभीर नज़र आये. लेकिन आर्थिक मामलों पर वो आत्म विश्वास के साथ बोले. आखिर वो आर्थिक मामलों के विशेषज्ञ जो ठहरे.

चुनाव से पहले उप-राष्ट्रपति के उमीदवारों के बीच केवल एक बहस रखी गई थी. जब कि राष्ट्रपति के पद के उमीदवारों के बीच में तीन, जिन में से एक पिछले हफ्ते ख़त्म हुई. दूसरी बहस 16 अक्टूबर को और तीसरी बहस 22 अक्टूबर को होगी.

आम तौर से उप-राष्ट्रपति के पद के लिए उमीदवारों के बीच बहस को अधिक अहमियत नहीं दी जाती है क्योंकि राष्ट्रपति के पद के चुनाव के परिणामों पर इसका असर नहीं होता है. लेकिन इस बहस क़ी अहमियत इस लिए बढ़ गई थी क्योंकि पहली बहस में राष्ट्रपति बराक ओबामा ने रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार मिट रोमनी के मुकाबले खराब प्रदर्शन किया.

दोस्ती के लिए

जो बाइडन पर काफी दबाव था कि वो आज क़ी बहस में कामयाब रहें और राष्ट्रपति ओबामा क़ी गिरती साख पर अंकुश लगा सकें. उनके और मिट रोमनी के बीच कांटे के मुकाबले में अपने दोस्त और राष्ट्रपति क़ी मदद कर सकें.

क्या इस में वो कामयाब हुए?

बहस के बाद दोनों उमीदवारों के समर्थक खुश नज़र आये. बराक ओबामा को इत्मीनान हुआ होगा कि उनके दोस्त ने दोस्ती खूब निभायी. दूसरी तरफ मिट रोमनी ने संतोष की सांस ली होगी कि उनके 42 वर्षीय साथी ने 69 वर्षीय तजुर्बेकार जो बाइडन का डट कर मुकाबला किया.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.