तूफ़ान की दस्तक ने रोकी चुनावी सरगर्मी

सैंडी तूफ़ान
Image caption अमरीका के पूर्वी तट पर चक्रवाती तूफ़ान सैंडी का असर दिखाई देने लगा है

चक्रवाती तूफ़ान सैंडी की दस्तक से अमरीका में राष्ट्रपति चुनाव की सरगर्मियां ठंडी पड़ गई हैं.

कैरीबियाई क्षेत्र में तबाही के बाद ये तूफ़ान अब अमरीका के पूर्वी तट की ओर बढ़ रहा है और सोमवार रात होते-होते इसके तट पर पहुंच जाने की आशंका है.

तूफ़ान की रफ्तार और प्रकृति को भांपते हुए मौसम वैज्ञानिकों की चेतावनी पर अमल करते हुए अधिकारी युद्धस्तर पर राहत और बचावकार्य की तैयारियों में जुटे हैं.

तूफ़ान ऐसे वक्त आ रहा है जब राष्ट्रपति चुनाव में नौ दिन बाकी रह गए हैं. इस तूफ़ान की वजह से ही राष्ट्रपति बराक ओबामा और उनके प्रतिद्वंद्वी मिट रोमनी को अपने चुनावी कार्यक्रम रद्द करने पड़े हैं.

बराक ओबामा को वर्जीनिया समेत तीन राज्यों का तूफ़ानी दौरा करना था, लेकिन सैंडी की दस्तक के मद्देनजर उन्हें रविवार का दिन आपदा केंद्र के अधिकारियों से साथ तैयारियों का जायजा लेने में बिताना पड़ा.

तूफ़ान और सियासत

Image caption तूफ़ान के निपटने में किसी तरह की कोताही राष्ट्रपति ओबामा को भारी पड़ सकती है.

डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन दोनों ही पार्टियों ने मतदाताओं से जल्द से जल्द अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने की अपील की है क्योंकि अमरीका में चुनाव की तारीख से कुछ सप्ताह पहले भी वोट डाले जा सकते हैं.

राष्ट्रपति ओबामा ने अपना वोट पिछले ही हफ्ते डाल दिया था. सैंडी का असर केवल चुनाव प्रचार पर ही नहीं पड़ रहा है, अमरीकी प्रशासन का कामकाज सोमवार और संभवत: मंगलवार को भी बंद रहेगा जिसके लिए लगभग आठ लाख लोग काम करते हैं.

वैसे सैंडी तूफ़ान का सियासी फ़ायदा उठाने की भी बातें की जा रही हैं. बराक ओबामा पर पहले से अधिक दबाव रहेगा क्योंकि उन्हें चुनावी प्रचार के लिए निर्धारित वक्त में से समय निकालकर आपदा अधिकारियों से लगातार संपर्क में रहना होगा.

ओबामा को साथ-साथ ही आम लोगों को भी संबोधित करना है जो उनके चुनाव प्रचार कार्यक्रम का हिस्सा है, जैसा उन्होंने रविवार को किया था.

वहीं मिट रोमनी इस इंतज़ार में होंगे कि आपदा से निपटने में प्रशासन से चूक हो और वो इसे मुद्दा बना लें. सात वर्ष पहले कटरीना तूफ़ान से हुई तबाही के दौरान बुश प्रशासन राहत और बचाव-कार्यों में बुरी तरह नाकाम रहा था.

लेकिन राष्ट्रपति ओबामा ने इस तूफ़ान के दौरान अच्छे प्रशासन का परिचय दिया तो वे इस कामयाबी की चर्चा अपनी चुनावी मुहिम के दौरान जरूर करना चाहेंगे.

संबंधित समाचार