सैंडी तूफान भीषण वेग से बढ़ रहा अमरीका की ओर

  • 30 अक्तूबर 2012
सैंडी तूफान
Image caption तूफान की वजह से समुद्र में 11 फीट ऊँची लहरें उठने की आशंका जताई गई है.

अब तक के सबसे बड़े तूफानों में गिना जाने वाला चक्रवाती तूफ़ान सैंडी पचासियों मील प्रति घंटे की रफ़्तार से अमरीका के पूर्वी तट की ओर बढ़ रहा है और जल्दी ही ये न्यू जर्सी क्षेत्र में पहुंच जाएगा.

कैरीबियाई क्षेत्र में भीषण तबाही मचाने के बाद ये अमरीका की ओर पहुंच रहा है जहां इससे आने वाली भीषण बाढ़ और बिजली कटौती से करीब छह करोड़ लोगों के प्रभावित होने की आशंका है.

तूफान से मचने वाली तबाही की आशंका से पूरा अमरीका सहमा हुआ है. न्यू यॉर्क सहित पूर्वी अमरीका के कई शहरों में सड़कों पर सन्नाटा पसरा हुआ है.

पूर्वी तट पर तेज बारिश शुरू हो चुकी है और जल्द ही सैंडी तूफान के अमरीका के पूर्वी तट से टकराने की उम्मीद है.

क्या है सैंडी तूफान, जानने के लिए यहां क्लिक करें

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने न्यू यॉर्क समेत कई इलाकों में इमर्जेंसी की घोषणा कर दी है.

हालांकि अमरीकी सरकार का दावा है कि उसने इस तूफान से निपटने की पूरी तैयारी कर रखी है, बावजूद इसके लोगों में दहशत है.

एहतियात

कई शहरों में सार्वजनिक परिवहन को बंद कर दिया गया है और हजारों हवाई उड़ानें रद्द कर दी गई हैं.

पिछले से इस तूफान ने कैरेबियाई क्षेत्र में व्यापक तबाही मचाई है और कम से कम 69 लोगों की मौत हुई है. इनमें से 52 लोग अकेले हेती में मारे गए हैं.

बताया जा रहा है कि सैंडी तूफान की वजह से समुद्र में करीब 11 फीट ऊँची लहरें उठ सकती हैं.

तूफान के कारण देश के पूर्वोत्तर भाग में 6000 से अधिक उड़ानें रद्द कर दी गई हैं. अकेले न्यूयॉर्क शहर से 3,70,000 लोगों को हटाया गया है.

समझा जाता है कि न्यूयॉर्क और न्यूजर्सी में जल्द ही तूफान दस्तक दे देगा.

साल 1985 के बाद से पहली बार न्यू यॉर्क स्टॉक एक्सचेंज को भी बंद करना पड़ा है.

तूफ़ान की वजह से 12 राज्यों में लाखों लोगों के प्रभावित होने की आशंका जताई गई है और कहा जा रहा है कि इससे अमरीकी अर्थव्यवस्था को अरबों डॉलर का नुक़सान होगा.

संबंधित समाचार