अमरीकी चुनावी पर भारी पड़ा सैंडी तूफान

 बुधवार, 31 अक्तूबर, 2012 को 07:57 IST तक के समाचार
अमरीकी चुनाव पर तूफान का असर

दोनों अहम उम्मीदवारों के दौरे टाल दिए गए

अमरीका में राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव प्रचार की लहर पर तूफ़ान सैंडी की लहरें भारी पड़ी हैं. देश के पूर्वी हिस्से में इन लहरों ने राजनीतिक हलचल को एक तरह से ठप ही कर दिया.

चुनाव में सात दिन रह गए हैं. इस तूफ़ान के बारे में न तो रिपब्लिकन उम्मीदवार मिट रोमनी ने सोचा था और न ही राष्ट्रपति बराक ओबामा ने.

सैंडी तूफ़ान के कारण मिट रोमनी ने रविवार को वर्जीनिया राज्य का दौरा टाल दिया था. बराक ओबामा को भी वर्जीनिया समेत तीन राज्यों का दौरा करना था लेकिन रविवार का दिन उन्होंने राष्ट्रीय आपदा केंद्र के अधिकारियों से मुलाक़ात में गुज़ारा.

सोमवार ओर मंगलवार का दिन भी रविवार से कुछ अलग नहीं गुज़रा.

दोनों खेमों ने वोटरों से अपील की है की वो जल्द से जल्द अपने मत का इस्तेमाल करें. अमरीका में चुनाव छह नवंबर को है लेकिन वहां चुनाव वाले दिन से कुछ सप्ताह पहले वोट डाले जा सकते हैं. राष्ट्रपति ओबामा ने अपना वोट पिछले हफ्ते दिया था.

तूफ़ान पर राजनीति

सैंडी का असर केवल चुनाव प्रचार पर ही नहीं पड़ा है. सोमवार को और मंगलवार को दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे शक्तिशाली प्रशासन का कामकाज बंद रहा.

ओबामा और रोमनी

राष्ट्रपति ओबामा चाहेंगे कि तूफ़ान से निपटने में उनके प्रयासों की लोग तारीफ़ करें

आगे कुछ दिनों तक कितना काम होगा यह कहना मुश्किल है. और जब भी काम शुरु होगा तो उसका पूरा ध्यान तूफ़ान से हुई तबाही के बाद राहत और सहायता पर ही केंद्रित रहेगा.

अमरीकी प्रशासन के लिए आठ लाख लोग काम करते हैं जिनमें से हज़ारों राजधानी वॉशिंगटन में काम करते हैं.

सैंडी तूफ़ान के असर का सियासी फायदा लेने की भी बातें हो रही हैं. बराक ओबामा पर दबाव अधिक होगा.

उन्हें चुनावी प्रचार के लिए रखे गए बहुमूल्य समय में से वक़्त निकाल कर आपदा केंद्र के अधिकारियों से मुलाक़ात करते रहना होगा. आम जनता को संबोधित करते रहना होगा जैसा कि उन्होंने रविवार को किया.

मिट रोमनी इस इंतज़ार में होंगे की आपदा से निपटने में प्रशासन से चूक हुई तो उसका फायदा उठाया जाए.

2005 में बुश प्रशासन तूफ़ान कटरीना से हुई तबाही से निपटने में बुरी तरह से नाकाम रहा था. लेकिन अगर ओबामा प्रशासन सैंडी तूफ़ान से कारगर तरीके से निपटा तो वे इस कामयाबी की चुनावी मुहिम के दौरान चर्चा भी करेंगे.

इसे भी पढ़ें

टॉपिक

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.