एक ऐप जो मिटा देगा दूरियां!

  • 1 नवंबर 2012
फोन पर बातचीत

यूं तो भावनाएं किसी भाषा की मोहताज नहीं होतीं लेकिन भाषा का फ़र्क़ अगर रिश्तों में दूरी की वजह बन रहा है तो ये खबर आपको सुखद एहसास देगी.

शब्दों की बौछार होने के साथ-साथ 'वास्तविक समय' में उनका अनुवाद करने वाला एक ऐप देशों के बीच दूरियां ख़त्म करने में कारगर हो सकता है.

जापान का ‘एनटीटी डोकोमो’ जापान का सबसे बड़ा मोबाइल नेटवर्क है. इसकी ओर से शुरु किए गए इस नए ऐप के ज़रिए फ़िलहाल अंग्रेज़ी, मैंडेरिन और कोरियाई भाषा का अनुवाद हो रहा है लेकिन जल्द ही कई नई भाषाएं इसमें जुड़ेंगी.

‘टेलिफ़ोन ट्रांसलेशन’ की ये तकनीक पिछले दिनों लॉच हुई नई तकनीकों का हिस्सा है.

इस नए ऐप के ज़रिए आने वाले समय में मुमकिन है कि इस तरह के ऐप के ज़रिए कंपनियों को द्विभाषियों के बजाय तकनीक से ही मदद मिल जाएगी. कुलमिलाकर ये ऐप कंपनियों को सुविधा और ख़र्च कटौती का रास्ता दिखा रही है.

हालांकि तकनीक जानकार और इस ऐप का इस्तेमाल करने वाले मानते हैं कि अनुवाद सटीक नहीं होने के कारण इसका इस्तेमाल हर जगह नहीं किया जा सकता.

स्मार्टफ़ोन पर करेगा काम

जापान में अक्तूबर महीने की शुरुआत में ‘एनटीटी डोकोमो’ ने अपनी इस नई तकनीक को दुनिया के सामने रखा जिसके ज़रिए बातचीत के दौरान सामने वाले की आवाज़ सुनकर उसका अनुवाद किया जाएगा.

जानकारों के मुताबिक़ क्लाउड कंप्यूटिंग की तकनीक पर आधारित इस ऐप का इस्तेमाल किसी भी तरह के एंड्रॉयड फ़ोन पर किया जा सकता है.

एनटीटी डोकोमो के लिए बाज़ार में फ़िलहाल फ्रांस की कंपनी एल्काटेल ल्यूसेंट ही एक प्रतिद्वंद्वी है जिसने अपने ऐप वी-टॉक के ज़रिए कुछ ऐसा ही करने की कोशिश की है.

सटीक अनुवाद पर सवाल?

हालांकि भाषाई जानकार मानते हैं कि सही अनुवाद और सटीक भाषा के उच्चारण की दिशा में इस तकनीक को अभी काफ़ी बेहतर बनाना होगा.

तकनीक विशेषज्ञ बेनेडिक्ट ईवान्स के मुताबिक़, ''लाइव अनुवाद की तरह काम करने वाली इस तरह की तकनीकों पर लंबे समय से काम हो रहा है, लेकिन बोलचाल की भाषा की सहुलियत के साथ इसका इस्तेमाल होने में अभी काफ़ी वक़्त लगेगा.''

जानकारों का मानना है कि वो परिस्थितियां जिनमे बेहद सटीक अनुवाद की ज़रूरत है उनमें इस ऐप का इस्तेमाल फ़िलहाल नहीं हो सकता.

संबंधित समाचार