अमरीका: तूफान के बाद अब महंगाई की मार

तूफान सैंडी के बाद रोजमर्रा के सामान की कीमतों की कीमतों में बेतहाशा बढ़ोत्तरी की सैकड़ों शिकायतों के बाद न्यूयॉर्क के अटॉर्नी जनरल ने जाँच शुरू की है.

अटॉर्नी जनरल एरिक शेनडरमैन का कहना है कि सबसे ज्यादा शिकायतें तेल की कीमतों में वृद्धि को लेकर आई हैं, लेकिन साथ ही दूसरी आपात वस्तुओं की आपूर्ति भी प्रभावित हुई हैं.

न्यूयॉर्क के कानून के तहत जरुरी उपभोक्ता वस्तुओं की कीमतों में बेतहाशा बढ़ोत्तरी नही की जा सकती.

तूफान के एक हफ्ते बाद भी न्यूजर्सी और न्यूयॉर्क में दस लाख से ज्यादा लोग बिना बिजली के रह रहे हैं.

हालांकि तेल की आपूर्ति पूरे क्षेत्र के पेट्रोल पंप तक पहुंच रही हैं लेकिन न्यूयॉर्क के लगभग एक चौथाई इलाके में ये अभी भी ये बंद है.

तेल की कीमतें

तूफान की वजह से 85 लाख घरों और व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में बिजली गुल हो गई थी. जिसकी वजह से जनरेटर और होटल के कमरों की मांग में अचानक भारी बढ़ोत्तरी हो गई. हजारों लोगों को इसकी वजह से विस्थापित होना पड़ा.

एरिक शेनडरमैन का कहना था कि उपभोक्ताओं ने उनसे आपात स्थिति में इस्तेमाल मे आने वाले सामन जैसे जनरेटर और अन्य जरुरी सामानों का जमाखोरी रोकने के लिए संपर्क किया है. साथ ही भोजन और पानी की कीमतों में वृद्धि की शिकायत दर्ज कराई है.

बयान में अटॉर्नी जनरल ने कहा है कि न्यूयॉर्क राज्य के कानून के तहत, खुदरा विक्रेता निजी,परिवार या घर के लिए जरुरी सामानों के लिए अनावश्यक रुप से अत्यधिक कीमतें नही वयूल सकते हैं.

उऩ्होंने कहा कि जो लोग इन परिस्थितियों का फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं उन्हें ये सब नही करने दिया जाएगा.

संबंधित समाचार