अखबारों में भी छाए ओबामा

 बुधवार, 7 नवंबर, 2012 को 23:58 IST तक के समाचार

अमरीका में छपने वाले अखबार राष्ट्रपति बराक ओबामा की जीत से पटे हुए हैं.

डेमोक्रेट पार्टी के उम्मीदवार बराक ओबामा और रिपब्लिकन पार्टी के मिट रोमनी के बीच कांटे का मुकाबला बताया जा रहा था लेकिन बराक दूसरी बार बाजी मार ले गए हैं.

सात नवंबर को छपने वाले कई समाचार पत्रों ने जीत के बाद ओबामा की अलग-अलग अंदाज़ में दर्जनों तसवीरें छापी गई हैं. किसी अखबार में वे अपने समर्थकों को जीत के बाद धन्यवाद करते दिख रहे हैं, कुछ में वह अपने परिवार के साथ स्टेज पर हैं तो कहीं वह उप राष्ट्रपति जो बाडेन के साथ जीत की खुशी मना रहे हैं.

एक अखबार ने मुख्य पृष्ठ पर लिखा है कि ओबामा विजयी, तो किसी में लिखा है ओबामा को मिले चार साल और.

ऐतिहासिक जीत

न्यू यॉर्क पोस्ट के मुख्य पृष्ठ पर बड़े बड़े अक्षरों में लिखा है बराक फ़ोर मोर यानी बराक को मिले चार और साल. साथ में बराक ओबामा की तस्वीर छपी है और अमरीकी राष्ट्रपति की सरकारी मोहर के बगल में लिखा है ओबामा की ऐतिहासिक जीत.

अखबार लिखता है कि बराक ओबामा ने कई अहम राज्यों में जीत दर्ज करके राष्ट्रपति पद के लिए दूसरा कार्यकाल भी जीत लिया.

वॉल स्ट्रीट जरनल अखबार ने सीधी सी हेडलाईन दी है - ओबामा विन्स यानी ओबामा जीत गए. साथ में बराक ओबामा को उनकी पत्नी मिशेल और दोनों बेटियों के साथ जीत के बाद समर्थकों का अभिवादन करते दिखाया गया है और तसवीर के नीचे इलेक्टोरल कॉलेज के वोटों के अहम आंकड़े ओबामा 303 - रोमनी 203 बड़े-बड़े अक्षरों में लिखे गए हैं.

अहम बदलाव

अखबार लिखता है कि राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इस लिहाज़ से भी अहम जीत है क्योंकि अमरीका के इतिहास में 1940 के बाद कभी किसी राष्ट्रपति ने देश में इतनी अधिक बेरोजगारी के आंकड़ों के होते हुए दोबारा चुनाव नहीं जीता है.

इस मामले में ओबामा की जीत को आधुनिक युग में अमरीकी चुनाव के इतिहास में एक अहम जीत माना जा रहा है.

लेकिन अखबार में एक अहम बदलाव की ओर भी इशारा करते हुए लिखा गया है कि ओबामा की जीत में कई प्रकार के वोटरों के अनोखे समागम का भी बड़ा हाथ है और अमरीकी चुनावी दंगल में श्वेत वोटरों का वर्चस्व कम हो रहा है और लातिन वोटरों का प्रभाव बढ़ रहा है.

लातिन अमरीका का समर्थन

इस बार के चुनाव में कहा जा रहा है कि लातिन अमरीकियों ने बराक ओबामा को भरपूर समर्थन दिया.

न्यू यॉर्क में जहां डोमोक्रेटिक पार्टी का दबदबा है वहां के एक लातिन अमरीकी समाचार पत्र एल डियारियो के पहले पन्ने पर बराक ओबामा की बड़ी सी तस्वीर लगाई गई है और लातिन अमरीकी लोगों के समर्थन को भी प्रमुखता दी गई है.

सर्वेक्षणों के मुताबिक इस बार के चुनाव में बराक ओबामा को 71 प्रतिशत लातिनी अमरीकी लोगों का वोट मिला है.

यूएसए टुडे समाचार पत्र के भी मुख्य पृष्ठ पर हेडलाइन है, ओबामा विजयी और साथ में ओबामा की तस्वीर लगी है जिसमें वह मोबाइल फ़ोन पकड़े हुए हैं और लिखा है कि ओहायो राज्य में जीत ने राष्ट्रपति को शीर्ष पर पहुंचा दिया.

सैंडी ने रुख बदला

उन्होंने मध्य अमरीका के कई अहम राज्यों जैसे कोलोराडो, आयोवा, विस्कांसिन और वर्जीनिया में भी जीत दर्ज करके चुनाव के नतीजों का रूख मोड़ दिया.

लेकिन समाचार पत्र लिखता है कि दोनों उम्मीदवारों को 50 प्रतिशत से कम वोट मिलें हैं और सैंडी तूफ़ान का भी ज़िक्र है कि आखिरी समय में कुछ वोटरों ने उससे उपजे हालात के कारण बराक ओबामा को हिमायत दी.

वहीं न्यू यॉर्क टाइम्स के पहले पन्ने पर बोल्ड हेडलाइन है - ओबामाज़ नाईट या ओबामा की रात. साथ में एक बड़ी सी तस्वीर छपी है जिसमें ओबामा को उनके परिवार के साथ दिखाया गया है.

दोबारा जीत का ज़िक्र करते हुए रिपोर्ट में ओबामा का पूरा नाम यानी बराक हुसैन ओबामा लिख गया है और लिखा गया है कि ओबामा ने अर्थव्यवस्था की खराब हालत, अमरीकी संसद में रिपब्लिकन सदस्यों द्वारा उनके एजेंडे में रोड़े अटकाने और विरोध में विज्ञापन की बाढ़ के बावजूद एक बंटे हुए देश में जीत दर्ज की.

लेकिन तकरीबन सभी समाचार पत्रों में यह लिखा गया है कि अब जब दोबारा जीत हो गई है तो क्या बराक ओबामा एक बंटी हुई अमरीकी संसद जिसमें प्रतिनिधि सभा में रिपब्लिकन पार्टी का बहुमत बरकरार है के साथ मिलकर अर्थव्यवस्था की मंदी जैसे अहम मुद्दो पर कितनी प्रगति कर पाएंगे.

इसके साथ कई अमरीकी समाचार पत्रों में इस बात की भी चर्चा शुरू हो गई है कि रिपब्लिकन पार्टी को भविष्य में चुनावी जीत हासिल करने के लिए क्या कुछ अहम बदलाव करने होंगे, जिसमें पार्टी की अधिकतर श्वेत लोगों की पार्टी होने की छवि को बदलना भी शामिल हो सकता है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.