इसराइली हमले में हमास सैन्य प्रमुख की मौत

  • 14 नवंबर 2012
Image caption इसराइल का कहना है कि हमास सैन्य प्रमुख ही सभी चरमपंथी हमलों को निर्देशित करते थे.

ग़ज़ा पट्टी पर इसराइल के हवाई हमले में फ़लस्तीनी संगठन हमास के सैन्य प्रमुख अहमद सैयद ख़लील अल जबारी की मौत हो गई है.

अहमद ख़लील अल जबारी और एक अन्य शीर्ष हमास अधिकारी की मौत उस वक़्त हुई जब उनकी कार पर हमला हुआ.

ऐसा लग रहा है कि अल जबारी की हत्या इसराइल का हमास नियंत्रित ग़ज़ा पट्टी पर वृहत् सैन्य अभियान का एक हिस्सा था.

ग़ज़ा पट्टी से इसराइल के ख़िलाफ़ किए गए रॉकेट हमलों के जवाब में इसराइल ने ये हमले शुरू किए हैं.

इसराइल के रक्षा मंत्रालय(आईडीएफ़) ने कहा है कि उन्होंने हमास, इस्लामिक जेहाद और चरमपंथियों के ख़िलाफ़ ‘ओपरेशन क्लाउड पिल्लर’ शुरु किया है.

पिछले दिनों हुए रॉकेट हमलों के बाद ही इसराइल के अधिकारियों ने कहा था कि वो हमास के शीर्ष अधिकारियों को ख़त्म करने पर विचार कर रहे हैं.

46 वर्ष के अहमद ख़लील अल जबारी पिछले चार साल में इसराइल के ज़रिए किए गए हमलों में मारे जाने वाले हमास के सबसे शीर्ष नेता है.

इसराइल की सुरक्षा एजेंसी शिन बेट ने इस बात की पुष्टि की है कि उन्होंने अल जबारी को निशाना बनाया है.

शिन बेट की ओर से कहा गया है पिछले दस वर्षों में अहमद खलील गज़ा की ओर से इसराइल पर हुए सभी आंतकी हमलों के लिए जिम्मेदार थे.

शिन बेट ने एक बयान जारी कर कहा है, ''अहमद ख़लील इसराइल पर हुए सैन्य हमले और उनकी आर्थिक मदद करने के लिए ज़िम्मेदार थे. उनका मारा जाना हमास के लिए एक संदेश है कि अगर वे ऐसे ही इसराइल के ख़िलाफ आतंक को बढ़ावा देते रहेंगे तो उन्हें उसकी क़ीमत चुकानी होगी.”

शनिवार से हो रहे इसराइली हमले में अब तक जबारी समेत चार फ़लस्तीनी आम नागरिक और तीन चरमपंथी मारे गए हैं और दर्जनों घायल हुए हैं.

हमास के ज़रिए किए गए हमलों में अब तक आठ इसराइली नागरिक घायल हुए हैं.

हमास के प्रवक्ता ताहिर अनुनु ने बीबीसी अरबी से बातचीत के दौरान कहा, “ये एक जघन्य अपराध है और इसके गंभीर परिणाम होंगे.”

ग़ज़ा में बीबीसी संवाददाता जॉन डॉनिसन का कहना है कि इस हमले से एक और युद्ध की शुरुआत हो सकती है.

संबंधित समाचार