ज़मीनी संघर्ष समेत सब विकल्प खुले: इसराइल

  • 17 नवंबर 2012

इसराइल ने हमास नेताओं के कार्यालयों पर हमले किए हैं. इस इलाके में इसराइली हवाई हमलों का ये चौथा दिन है. इसराइली सरकार के प्रवक्ता मार्क रेगव ने बीबीसी को बताया कि जब इसराइली नागरिक सुरक्षित होंगे तभी अभियान खत्म होगा. उन्होंने ये भी कहा कि ज़मीनी संघर्ष समेत सभी विकल्प खुले हैं.

इसराइल के हमले में प्रधानमंत्री इस्माइल के दफतर समेत कई इमारतें नष्ट हो गईं. मिस्र के प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को यहाँ का दौरा किया था.

इसराइल ने बुधवार को हमास के सैन्य प्रमुख को मार दिया था,.उसके बाद से 39 फलस्तीनियों और तीन इसराइलियों की मौत हो चुकी है.

बीबीसी संवाददाता पॉल डैनहर ने घटनास्थल से ट्वीट किया है, “एक माँ अपने नष्ट हो चुके घर में है,..वो अपने बेटी की गुड़िया उठा रही है, उससे धूल हटा रही है.”

ज़मीनी संघर्ष की आशंका को देखते हुए इसराइल ने 75 हज़ार रिज़र्व सैनिकों को स्टैंड बाय पर रखा है. इस बीच गज़ा में चरमपंथी इसराइल में लगातार रॉकेट दाग रहे हैं. शनिवार को गज़ा शहर में कई धमाके हुए.

बातचीत की कोशिश

इसराइली सेना ने बीबीसी को बताया है कि ग़ज़ा में अब भी ऐसे सैकड़ों जगह हैं जिन्हें वे अपना निशाना बनाना चाहते हैं.

इसराइली सेना का कहना है कि हमास से जुड़ी किसी भी चीज़ पर हमला करना जायज़ है. गज़ा में हमास का नियंत्रण है.

एक प्रवक्ता ने कहा है इस अभियान का मकसद इसराइली नागरिकों को फलस्तीनी रॉकेटों के हमलों से बचाना है.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने मिस्र के उन प्रयासों की सराहना की है जिनके तहत वह ग़ज़ा में इसराइल और हमास के बीच मध्यस्थता के जरिए शांति कायम करने की कोशिश कर रहा है.

इससे पहले संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने दोनों पक्षों से खतरनाक स्तर पर पहुँच गई हिंसा को बंद करने का आहवान किया था. वे अगले सप्ताह इसराइल, मिस्र और पश्चिमी तट जाएँगे लेकिन ये स्पष्ट नहीं है कि वे ग़ज़ा जाएँगे या नहीं.

संबंधित समाचार