हमास के प्रधानमंत्री के कार्यालय पर इसराइली बमवर्षा

 शनिवार, 17 नवंबर, 2012 को 12:52 IST तक के समाचार

पिछले बुधवार से इसराइल और हमास हिंसक कार्रवाई कर रहे हैं

इसराइल की वायुसेना ने ग़ज़ा में फलस्तीनी प्रधानमंत्री और मंत्रिमंडल की इमारत पर बमबारी की है. ये कार्रवाई इसराइल की फलस्तीनी गुट हमास के खिलाफ अभियान के चौथे दिन हुई है.

घटनास्थल से मिली खबरों के मुताबिक इमारत को व्यापक नुकसान हुआ है. बीबीसी संवाददाता का कहना है कि संभवत: जिस समय बमबारी हुई उस समय इमारत खाली थी.

लेकिन पिछले बुधवार से दोनों पक्षों के बीच हो रही हिंसा में अब तक 29 फलस्तीनी और तीन इसराइली मारे गए हैं.

हताहतों के बारे में ताजा खबरें जाबालिया से आई हैं जहाँ एक घर पर बम गिरने से 30 लोग घायल हुए हैं और कई शव मलबे में दबे हुए हैं.

उधर अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने मिस्र के उन प्रयासों की सराहना की है जिनके तहत वह ग़ज़ा में इसराइल और हमास के बीच मध्यस्थता के जरिए शांति कायम करने की कोशिश कर रहा है.

इससे पहले संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने दोनों पक्षों से खतरनाक स्तर पर पहुँच गई हिंसा को बंद करने का आहवान किया था. वे अगले सप्ताह इसराइल, मिस्र और पश्चिमी तट जाएँगे लेकिन ये स्पष्ट नहीं है कि वे ग़ज़ा जाएँगे या नहीं.

हवाई हमले, पाँच बड़े धमाके

ग़ज़ा से बीबीसी संवाददाता ने बताया है कि एक के बाद एक पाँच बड़े धमाके हुए हैं.

उधर इसराइली वायुसेना का कहना है कि उसने उन भूमिगत स्थलों को तबाह कर दिया है जिनसे इसराइल पर रॉकेट हमले हो रहे थे. हाल में फलस्तीनी लड़ाकों ने तेल अवीव और यूरुशलम पर इस तरह के रॉकेट हमले किए हैं.

पिछले कई दशकों में पहली बार यरुशलम को निशाना बनाया गया और गज़ा पट्टी से इस तरह का ये पहला हमला था.

इसराइली रेडियो ने बताया कि ये रॉकेट यरुशलम शहर से बाहर गिरा और कोई हताहत नहीं हुआ.

इस हमले के बाद इसराइल ने 75,000 अतिरिक्त सैनिकों को तैयार रहने का निर्देश दिया है और माना जा रहा है कि इसराइल ग़ज़ा पर जमीनी कार्रवाई की योजना बना रहा है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.