गर्भपात का़नून में बदलाव के लिए आयरलैंड में रैली

 रविवार, 18 नवंबर, 2012 को 15:36 IST तक के समाचार
प्रदर्शन

रिपब्लिक ऑफ आयरलैंड में विवादित परिस्थितियों में भारतीय मूल की सविता हलप्पनवार की मौत को लेकर वहाँ हज़ारों लोगों ने रैली की है. इन लोगों की माँग है कि गर्भपात से जुड़े आयरिश कानून में बदलाव किया जाए.

31 साल की सविता की आयरलैंड में 28 अक्तूबर को मौत हो गई थी. परिवार का आरोप है कि सविता के कहने के बावजूद डॉक्टरों ने गर्भपात करने से मना कर दिया था और उनकी मौत हो गई. उस समय उनका गर्भ 17वें महीने में था.

शनिवार रात को डबलिन में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन हुए हैं. ये लोग आयरलैंड के संसद तक गए जहाँ मोमबत्तियाँ जलाई गईं और एक मिनट तक मौन रखा गया. अन्य शहरों में भी प्रदर्शन हुए हैं.

इस बीच आयरिश पुलिस ने पुष्टि की है कि इस मामले में हो रही जाँच में वे मदद कर रही है.

कानून पर विवाद

सविता की मौत का कारण सेप्टीसीमिया बताया गया है. उन्हें पीठ दर्द की शिकायत के बाद अस्पताल में भर्ती करवाया गया था और बाद में उन्हें बताया गया कि मिसकैरज हो गया है.

सविता के पति प्रवीण कहते हैं कि उनकी पत्नी ने ये बात स्वीकार कर ली थी कि उनका बच्चा ज़िंदा नहीं बचेगा और कई बार गर्भपात के लिए अनुरोध किया था.

प्रवीण ने बताया, “डॉक्टरों ने गर्भपात करने से मना कर दिया था क्योंकि भ्रूण अभी ज़िंदा था. अस्पताल अधिकारियों ने बताया कि आयरलैंड कैथलिक देश है.”

वहीं अस्पताल का कहना है कि इस मामले में तथ्य अभी स्थापित नहीं हुए हैं और वे जाँच में मदद कर रहे हैं. माना जा रहा है कि जाँच के नतीजे सार्वजनिक किए जाएँगे.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.