तिलचट्टा खाने वाले की मौत दम घुटने से

तिलचट्टा खाने की प्रतियोगिता
Image caption इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले और किसी को कोई बीमारी नहीं हुई है.

ज़िंदा तिलचट्टा खाने की ये अनोखी प्रतियोगिता अमरीका के फ़्लोरिडा शहर में अक्तूबर के महीने में हुई थी.

उस प्रतियोगिता के विजेता रहे 32 साल के एडवर्ड आर्चबोल्ड की प्रतियोगिता ख़त्म होने के फ़ौरन बाद मौत हो गई थी.

उनके शव के ऑटोप्सी के बाद अब डॉक्टरों का कहना है कि उनकी मौत सांस के रूकने से हुई थी.

ब्रोवार्ड काउंटी के चिकित्सक ने शव की जांच के बाद कहा कि एडवर्ड ने किसी नशीली पदार्थ का सेवन नहीं किया था और उनकी मौत दम घुटने से हुई थी.

इस प्रतियोगिता में लगभग 30 लोगों ने हिस्सा लिया था लेकिन डॉक्टरों के अनुसार आर्चबोल्ड के अलावा और किसी प्रतियोगी को कोई बीमारी नहीं हुई है.

डॉक्टर के अनुसार आर्चबोल्ड की सांस की नली तिलचट्टे के शरीर के अंगों के कारण जाम हो गई थी.

इनाम में अजगर

इस प्रतियोगिता का आयोजन शहर के एक सांप और कीड़े मकोड़े बेचने वाले स्टोर 'बेन सीगल रेप्टाइल स्टोर' ने किया था.

स्टोर के मालिक बेन सीगल के अनुसार प्रतियोगिता जीतने वाले को इनाम के तौर पर अजगर सांप दिया जाना था.

स्टोर मालिक के अनुसार आर्चबोल्ड ने सोचा था कि प्रतियोगिता जीतने के बाद इनाम के रूप में मिलने वाले अजगर सांप को वो अपने किसी दोस्त को बेच देगा.

बेन सीगल ने कहा कि प्रतियोगिता से पहले आर्चबोल्ड की तबीयत बिल्कुल ठीक थी.

उनकी मौत पर अफ़सोस जताते हुए बेन सीगल ने कहा, "हमें बहुत बुरा लग रहा है. ऐसा लग रहा था कि वो अपनी प्रतिभा दिखाना चाहते हैं और वो बिल्कुल ठीक नज़र आ रहे थे."

बेन सीगल के वकील ने कहा कि इस ग़ैर-पारंपरिक प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले सभी प्रतियोगियों ने अपनी इच्छा से इसमें शामिल होने और इसकी ज़िम्मेदारी लेने की बात लिखित रूप में स्वीकार की थी.

संबंधित समाचार