भारतीय मूल की नर्स की मौत 'त्रासदी'

  • 8 दिसंबर 2012
Image caption उस समय ड्यूटी पर मौजूद नर्स सैल्दान्हा ने ही फर्जी फोनकॉल का जवाब दिया था

डचेज़ ऑफ़ कैंब्रिज की तबीयत के बारे में फ़र्ज़ी फ़ोन कॉल रिसीव करने वाली नर्स की मौत के मामले में स्कॉटलैंड यार्ड ने ऑस्ट्रेलियाई पुलिस से संपर्क किया.

46 वर्षीया जेसिंथा साल्दान्हा नामक नर्स की गत शुक्रवार को संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी.

इस बीच रेडियो स्टेशन संचालित करने वाली कंपनी बोर्ड की आपात बैठक बुला रहा है.

ऑस्ट्रेलियाई रेडियो स्टेशन ने डचेज़ ऑफ़ केंब्रिज की तबीयत के बारे में फर्ज़ी फोनकॉल रिसीव करने वाली किंग एडवार्ड सप्तम अस्पताल की नर्स की मौत को एक 'त्रासदी' बताया है.

सिडनी के रेडियो स्टेशन टूडे एफ़एम का मालिकाना हक़ रखनेवाली कंपनी के प्रमुख रायस हॉलेरन ने कहा कि मेल ग्रेग और माइकल क्रिस्चियन नाम के रेडियो प्रस्तोता 46 वर्षीय नर्स जैसिन्था सैल्दान्हा की मौत से गहरे सदमे में हैं.

इन दोनों रेडियो प्रसारकों ने ही मंगलवार को महारानी और प्रिंस चार्ल्स बनकर उस अस्पताल में फोन किया था जहां डचेज़ ऑफ़ क्रेंब्रिज भर्ती थीं.

लंदन की पुलिस स्कॉटलैंड यार्ड ने अब मृत नर्स जैसिन्था सैल्दान्हा की एक तस्वीर जारी की है. इस बीच रेडियो स्टेशन ने विज्ञापन निलंबित कर कार्यक्रम का प्रसारण रोक दिया है.

मेलबर्न में एक संवाददाता सम्मेलन में रेडियो स्टेशन के प्रमुख हॉलेरन ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि कोई क़ानून तोड़ा गया है.

मंगलवार को अस्पताल के मुख्य कार्यकारी जॉन लॉफ़्टहाउस ने कहा था कि उन्हें परामर्श दिया गया है कि ऑस्ट्रेलियाई प्रसारकों ने शायद ऐसा काम कर क़ानून तोड़ा है.

रेडियो स्टेशन के दोनों प्रसारकों ने मंगलवार की सुबह अस्पताल को फोन किया था और इस कॉल को रिकॉर्ड कर लिया था. उसके बाद रेडियो स्टेशन के वकीलों ने इस रिकॉर्डिंग का प्रसारण से पहले मूल्यांकन किया था.

अस्पताल में उस समय मौजूद नर्स सल्दान्हा ने उस फर्जी फोनकॉल का जवाब दिया था क्योंकि लंदन के स्थानीय समय के अनुसार उस समय सुबह के साढ़े पांच बज रहे थे और उस समय कोई रिसेप्शनिस्ट ड्यूटी पर मौजूद नहीं था.

नर्स की मौत

Image caption रेडियो स्टेशन के प्रमुख हॉलेरन ने इस घटना को त्रासदी बताया है.

फर्जी फोन कॉल के जवाब में डचेस ऑफ कैम्ब्रिज की तबीयत के बारे में एक ऑस्ट्रेलियाई रेडियो स्टेशन को जानकारी देने वाली नर्स जैसिन्था सैल्दान्हा लंदन में मृत पाई गई थीं.

बताया जा रहा है कि जैसिंथा सैल्दान्हा भारतीय मूल की थीं.

ड्यूक और डचेस ऑफ कैम्ब्रिज ने एक बयान जारी कर कहा है कि नर्स जैसिंथा सैल्दान्हा की मौत से उन्हें 'बहुत दुख हुआ है.'

किंग एडवर्ड सप्तम अस्पताल ने जैसिंथा की मौत की पुष्टि की है और उन्हें श्रद्धांजलि दी है.

इस बीच फर्जी फोन कॉल करने वाले ऑस्ट्रेलियाई रेडियो स्टेशन के दोनों प्रस्तुतकर्ताओं को फिलहाल हटा दिया गया है.

दो दिन पहले ऑस्ट्रेलिया के दो रेडियो प्रस्तोताओं ने महारानी और प्रिंस चार्ल्स बन कर अस्पताल में फोन किया. फोन रिसीव करनेवाली नर्स सैल्दान्हा ने समझा कि फोन शाही परिवार से आया है और उन्होंने गर्भवती डचेस ऑफ कैम्ब्रिज की तबीयत के बारे में रेडियो स्टेशन को सारी जानकारी दे दी.

'तन्हा और भ्रमित'

केट मिडलटन को सोमवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और गुरुवार को उन्हें छुट्टी दे दी गई.

बीबीसी के शाही परिवार संवाददाता पीटर हंट का कहना है कि उन्हें पता चला कि सैल्दान्हा ही वो नर्स थीं जिन्होंने फर्जी फोन कॉल का जवाब दिया था. वो शादीशुदा थी और उनके दो बच्चे हैं.

बीबीसी को पता चला है कि सैल्दान्हा को अस्पताल से न तो निलंबित किया गया और न ही किसी तरह की अनुशासनात्मक कार्रवाई का सामना करना पड़ा.

बीबीसी के निकोलस विचेच का कहना है कि संभवत वो इस पूरे घटनाक्रम को लेकर 'बेहद अकेली और भ्रमित थीं'.

'बहुत अच्छी नर्स'

Image caption रेडियो प्रसारक मेल ग्रेग और माइकल क्रिस्चियन ने ही अस्पताल में फर्जी फोन किया था.

शाही महल के प्रवक्ता का कहना है कि इस घटना के बारे में अस्पताल से कभी कोई शिकायत नहीं की गई. बयान के अनुसार, “उल्टे हम इस घटनाक्रम से जुड़ी नर्सों और कर्मचारियों के साथ पूरा समर्थन जताते हैं.”

वहीं किंग एडवार्ड सप्तम अस्पताल के मुख्य कार्यकारी जॉन लॉफ्टहाउस ने बताया कि जैसिंथा चार साल से भी ज्यादा समय से इस अस्पताल में काम कर रही थीं.

उन्होंने कहा, “वो एक बहुत बढ़िया नर्स थीं और अपने साथियों के बीच काफी लोकप्रिय थीं और उन्हें खूब सम्मान दिया जाता था.”

पुलिस इसे संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत मान कर जांच कर रही है.

संबंधित समाचार