'स्कूल में ज़बर्दस्ती दाखिल हुआ था हमलावर'

  • 15 दिसंबर 2012
इस गोलीबारी में 18 बच्चों समेत 27 लोग मारे गए हैं.

अमरीका में कनेक्टीकट प्रांत के न्यूटाउन शहर के एक स्कूल में 20 बच्चों और छह वयस्कों की गोलीमार कर हत्या करनेवाला एडम लांज़ा ज़बर्दस्ती स्कूल में दाखिल हुआ था. पुलिस के मुताबिक एडम लांज़ा को स्कूल कर्मचारियों ने भीतर आने की अनुमति नहीं दी थी.

कनेक्टीकट पुलिस लेफ्टिनेंट पॉल वैन्स ने कहा कि पुलिस को स्कूल में जबर्दस्ती दाखिल होने के पुख़्ता सबूत मिले हैं जिससे उसके मक़सद को साबित करने में मदद मिलेगी.

हाल के दिनों में अमरीका में बढ़ती गोलीबारी की घटनाओं को देखते हुए राष्ट्रपति बराक ओबामा समेत कई राजनेताओं ने देश के हथियार रखने संबंधी क़ानून में बदलाव की वकालत की है ताकि भविष्य में ऐसी घटनाएं न हो सकें.

न्यूटाउन के सैंडी हुक एलिमेंटरी स्कूल में लांज़ा ने 27 लोगों को गोली मारने से पहले अपनी मां को भी मार डाला था और ये सब कुछ ही मिनटों में हुआ था. पूरा घटनाक्रम कुछ इस तरह पेश आया था -

स्कूल तक की यात्रा: समाचार एजेंसी एपी के अनुसार अपनी मां को मारने के बाद लांज़ा अपनी मां की गाड़ी लेकर स्कूल गया जिसमें करीब 700 बच्चे थे. पांच से दस वर्ष की उम्र के. अधिकारियों के अनुसार उस समय लांज़ा के पास दो हैंडगन और एक राइफल थी.

स्कूल में एंट्री: स्कूल में आने वाले लोगों की एंट्री स्टाफ का कोई सदस्य ही करवा सकता है. न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार स्कूल की हेडमास्टर डॉन होचस्प्रंग ने लांज़ा को पहचाना और फिर उन्हें अंदर आने दिया. तब समय हो रहा था 9.30मिनट. हालांकि कनेक्टीकट पुलिस का कहना है कि लांज़ा ने ज़बर्दस्ती स्कूल में प्रवेश किया था.

गोलीबारी शुरु: न्यूयॉर्क पोस्ट के अनुसार पुलिस को गोलीबारी के बारे में सूचना रेडियो पर मिली स्कूल से, करीब 9.36 मिनट पर जिसमें कहा गया कि एक बंदूकधारी फरार है.किसी ने इंटरकॉम भी ऑन कर दिया ताकि लोगों को स्कूल के दफ्तर में हो रहा हल्ला भी सुनाई पड़े.समाचार एजेंसी को स्कूल के एक टीचर ने बताया. टीचरों ने अपने कमरों के दरवाज़े बंद कर दिए और बच्चों को कोने में एक साथ छुपने के लिए कहा. गोलियों की आवाज़ सुनते ही शिक्षकों ने बच्चों को कपबोर्ड में बंद होने के लिए भी कहा. मिसेज़ होचस्प्रंग समेत छह वयस्क और 18 बच्चे इस घटना में मारे गए.

अचानक समाप्ति: अधिकारियों का कहना है कि गोलीबारी एकदम अचानक रुक गई कुछ ही मिनटों के बाद. 9.38 पर पुलिस अधिकारी ने अपने रेडियो डिस्पैच में कहा. ‘‘लगता है गोलीबारी रुक गई है.’’ न्यूयॉर्क पोस्ट के अनुसार, ‘‘इस समय बिल्कुल शांति है. स्कूल पूरा बंद हो चुका है.’’

घटना के बाद: पुलिस हर कमरे में गई और बच्चों के साथ शिक्षकों को भी कक्षाओं से निकाला. समाचार एजेंसी एपी के अनुसार इन बच्चों को सैंडी हुक फायर स्टेशन ले जाया गया जहां बच्चों के माता पिता वहां जमा हो गए थे. दो बच्चों को गोली लगी थी जिनकी बाद में मौत हो गई. कनेक्टिकट के गवर्नर डैनियल मलॉय फायर स्टेशन पहुंचे जहां उन्होंने कहा, ‘‘ शैतान आया था हमारी सोसायटी में आज, बहुत जल्दबाज़ी होगी उबरने की बात करना लेकिन हर मां बाप, हर बच्चा और हर परिवार समझ ले कि कनेक्टिकट में हम सब एक साथ हैं.’’

कथित हत्यारे लांज़ा अकेले रहना पसंद करते थे.

संदिग्ध: पुलिस को लांज़ा की लाश मिल गई है. लगता है कि लांज़ा ने खुद को गोली मार दी जिससे पहले उसने दो कक्षाओं को अपना निशाना बनाया. लांज़ा के बारे में और विवरण धीरे धीरे आ रहे हैं लेकिन अभी उसके किसी स्पष्ट उद्देश्य का पता नहीं चल पाया है. गोलीबारी के दौरान लांज़ा ने एक भी शब्द नहीं कहा.

मीडिया में भ्रम की स्थिति: शुरुआती रिपोर्टों के अनुसार स्कूल में गोली चलाने वाले की पहचान रेयान लांजा, एडम लांज़ा के बड़े भाई के रुप में की गई थी क्योंकि पुलिस अधिकारियों ने उसकी ग़लत पहचान की थी. रेयान लांज़ा ने फेसबुक पर अपडेट में कहा है कि वो मैं नहीं था और मैं उस समय काम पर था.

राष्ट्रपति का भाषण: एक भावनात्मक भाषण में, राष्ट्रपति बराक ओबामा ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘ हमारे दिल टूटे हुए हैं, उन सभी माता पिता, दादा दादी, बहन और भाई उन बच्चों के और बड़ों के लिए जिनके परिवार के लोग इस घटना में मारे गए हैं.’’ उन्होंने कहा कि बंदूक की संस्कृति से जु़ड़े अपराधों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी.

संबंधित समाचार