इंस्टाग्राम को लेकर छिड़ा संग्राम

इंस्टाग्राम
Image caption इसी साल फेसबुक ने इंस्टाग्राम को एक अरब डॉलर में खरीदा था

सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक के साथ तस्वीरें साझा करने वाली कंपनी इंस्टाग्राम ने इस बात से इनकार किया है कि उपयोगकर्ताओं की तस्वीरों को विज्ञापन कंपनियों को बिना सूचना के बेचने की उसकी कोई योजना है.

कंपनी ने इन अफवाहों का भी खंडन किया है कि इस बारे में वो अपनी निजता नीति में किसी तरह का बदलाव करने जा रही है.

इंस्टाग्राम का कहना है कि उपभोक्ताओं ने उसकी सेवाओं की संशोधित शर्तों को गलत तरीके से लिया है. कंपनी ने इसके लिए भ्रामक भाषा को दोषी ठहराया है.

इंस्टाग्राम का ये बयान इसके तमाम उपभोक्ताओं की शिकायतों के बाद आया है.

कंपनी ने कहा है, “हम स्पष्ट करना चाहते हैं कि उपभोक्ताओं की तस्वीरें बेचने का हमारा कोई इरादा नहीं है.”

इंस्टाग्राम के मुख्य कार्यकारी केविन सिस्ट्रोम ने अपने ब्लॉग में लिखा है, “ये हमारी गलती है कि इसमें दी गई भाषा भ्रामक है. हम भाषा को सुधारने पर काम कर रहे हैं ताकि इसमें स्पष्टता आ सके.”

इंस्टाग्राम की सेवा शर्तों में जरूरी बदलाव संबंधी सुधार आगामी 16 जनवरी से प्रभावी होने वाले हैं.

विवाद

इंस्टाग्राम की जिस सूचना को लेकर इतना हंगामा हुआ उसमें लिखा था, “आप इंस्टाग्राम के जरिए इस पर भेजी सूचना ले सकते हैं. इसके लिए पैसा देना होगा और ये सेवा रॉयल्टी मुक्त और हस्तांतरणीय है और दुनिया भर में इसका लाइसेंस मान्य है.”

शर्तों में ये भी लिखा गया है कि किसी उपभोक्ता की निजी जानकारी के लिए कोई पैसा देकर इसे ले सकता है. इसके लिए उपभोक्ता को किसी तरह का मुआवजा नहीं दिया जाएगा.

इंस्टाग्राम की मनाही के बाद अमरीका में उपभोक्ताओं के अधिकारों के लिए काम करने वाले एक दबाव समूह इलेक्ट्रॉनिक फ्रंटियर फाउंडेशन ने बीबीसी को बताया कि ये पूरा विवाद कुछ शब्दों के खेल का परिणाम है.

फाउंडेशन के प्रवक्ता पार्कर हिगिंस का कहना था, “इससे साफ पता चलता है कि वास्तव में इंस्टाग्राम अतिरिक्त अधिकार लेना चाहता था.”

इसी साल अप्रैल महीने में फेसबुक ने इंस्टाग्राम को एक अरब डॉलर में खरीदा था.

इंस्टाग्राम के करीब दस करोड़ उपभोक्ता हैं.

संबंधित समाचार