फ्रांसीसी अदाकार बने रूसी नागरिक

जेरार्ड दिपार्दिऊ
Image caption रूसी बने जेरार्ड दिपार्दिऊ

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने फ्रांसीसी अदाकार जेरार्ड दिपार्दिऊ से मुलाकात कर उन्हें रूसी नागरिकता प्रदान कर दी है.

फ्रांस की सरकार ने इस कदम की आलोचना की है. उसका कहना है कि दिपार्दिऊ ने ऊंचे करों से बचने के लिए रूस की नागरिकता हासिल की है.

जेरार्ड दिपार्दिऊ फ्रांसीसी अभिनेता, फिल्मकार और उद्योगपति हैं. फ्रांसीसी सरकार के साथ पिछले साल उस वक्त उनका विवाद शुरू हुआ जब राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलां ने घोषणा की कि दस लाख यूरो से ज्यादा कमाने वालों पर कर को बढ़ा कर 75 प्रतिशत किया जाएगा.

दिपार्दिऊ ने इसकी सख्त आलोचना की और सोशलिस्ट पार्टी की सरकार पर सफल और प्रतिभाशाली लोगों को दंडित करने का आरोप लगाया. जबकि रूस में सिर्फ 13 प्रतिशत ही आयकर देना होता है.

फैसले की आलोचना

खुद रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने जेरार्ड दिपार्दिऊ से मिल कर उनके नए देश में उनका स्वागत किया. हालांकि रूसी राष्ट्रपति के प्रवक्ता ने इस बात से इनकार किया है कि सोची में हुई इस मुलाकात में खुद पुतिन ने फ्रांसीसी अदाकार को निजी रूप से रूसी पासपोर्ट सौंपा.

लेकिन पिछले हफ्ते पुतिन ने जेरार्ड दिपार्दिऊ को नागरिकता देने के फैसले को मंजूरी दी तो फ्रांसीसी अदाकार ने बाकायदा पत्र लिख कर पुतिन का शुक्रिया अदा किया. लेकिन फ्रांसीसी प्रधानमंत्री ने जेरार्ड दिपार्दिऊ के इस फैसले को “तुच्छ और देभभक्ति के विपरीत” करार दिया है.

फ्रांसीसी कानून दोहरी नागरिकता की अनुमति देता है लेकिन किसी भी देश का नागरिक न होना गैर कानूनी है. इसका मतलब है कि फ्रांसीसी नागरिकता छोड़ने से पहले अन्य देश की नागरिकता लेना अनिवार्य है.

वैसे जेरार्ड दिपार्दिऊ ने अपने नए देश को अपनाना शुरू भी दिया है. वो रूसी बैंक सोवितयस्की बैंक के क्रेडिट कार्ड के विज्ञापन में दिखते हैं. इसके अलावा उन्होंने सेंट पीटर्सबर्ग में बच्चों के एक अस्पताल के लिए चंदा जुटाने में भी मदद की है.

संबंधित समाचार