युद्धोन्मादी हो रहा है भारत: हिना रब्बानी खर

Image caption पाकिस्तान की विदेश मंत्री ने भारत पर युद्ध के लिए आमादा होने का आरोप लगाया.

पाकिस्तान की विदेश मंत्री हिना रब्बानी खर ने भारत पर युद्ध के लिए आमादा होने का आरोप लगाया है.

खर का ये बयान भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने पाकिस्तान के साथ सामान्य रिश्ते नहीं रहने की बात कही थी.

दोनों देशों के बीच नियंत्रण रेखा पर भारत के दो सैनिकों की नृशंस हत्या के बाद तनातनी का दौर चल रहा है.

पाकिस्तान की विदेश मंत्री खर ने ये भी कहा कि इस मामले में भारत की प्रतिक्रिया से पाकिस्तान को काफी निराशा हुई है.

खर ने ये भी कहा है कि पाकिस्तान सरकार भारत के साथ शांति की प्रक्रिया को आगे बढ़ाना चाहती है.

'पाकिस्तान चाहता है शांति'

वॉशिंगटन में आयोजित एशिया सोसाइटी की एक बैठक में हिना रब्बानी खर ने कहा, “हम सीमा रेखा पर तीन घटनाएं देख चुके हैं. हमें लग रहा है कि सीमा के उस पार का देश युद्ध चाहता है. ”

इस घटना की भारत ने कड़ी निंदा की है. हिना रब्बानी खर ने इस पर कहा, “भारत में जिस तरह की प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है वह निराश करने वाली है. ऐसा लग रहा है कि वहां के राजनेताओं में आक्रामक बयानबाज़ी के लिए होड़ लगी है.”

खर ने ये भी कहा कि अगर पाकिस्तान में कोई दूसरी सरकार होती तो भारत को उसी सुर में जवाब दे सकती थी, लेकिन उनकी सरकार ऐसा नहीं करेगी.

खर ने कहा, “हमारे दो सैनिक मारे गए. कथित तौर पर भारत के भी दो सैनिक मारे गए हैं. पाकिस्तान युद्ध नहीं चाहता है. हम शांति वार्ता को आगे बढ़ाना चाहते हैं.”

पाकिस्तान की विदेश मंत्री ने ये भी कहा है कि इस मसले पर दोनों देशों को कहीं ज़्यादा परिपक्वता दिखानी चाहिए.

इनकार

हिना रब्बानी खर ने कहा, “हमें किसी भी स्तर पर बैठक करना चाहिए, हमें एक दूसरे बात करने की ज़रूरत है. हमें इस मसले पर परिपक्वता दिखानी होगी.”

हिना रब्बानी खर ने भारतीय प्रधानमंत्री के अलावा भारतीय थल सेनाध्यक्ष जनरल बिक्रम सिंह के बयान को भी आक्रामक बताया.

पाकिस्तान की विदेश मंत्री ने कहा कि दोनों देशों के बीच सामान्य संबंध बहाली के लिए शांति प्रक्रिया को जारी रखना ही एकमात्र विकल्प है.

वैसे हिना रब्बानी खर ने एक बार फिर भारतीय सैनिकों के सर काटे जाने की किसी घटना में पाकिस्तानी सेना के शामिल होने से इनकार किया.

संबंधित समाचार