बाढ़ के चलते 'भाग निकले 15 हज़ार मगरमच्छ'

 गुरुवार, 24 जनवरी, 2013 को 18:55 IST तक के समाचार

दक्षिण अफ्रीका में मगरमच्छ के लिए शामत बन कर आई बाढ़.

दक्षिण अफ्रीका में लोगों का हाल सिर्फ़ बाढ़ से ही बुरा नहीं है बल्कि अब उन्हें ये भी बात परेशान कर रही है कि एक फ़ार्म से 15 हज़ार मगरमच्छ निकल भागे हैं.

एक स्थानीय अख़बार के मुताबिक बाढ़ के ख़तरे को देखते हुए रकवेना फार्म के दरवाजे खोल दिए गए थे जिसके बाद बड़ी संख्या में ये मगरमच्छ भाग निकले.

ख़बर के मुताबिक, भागे हुए कई मगरमच्छों को वापस पकड़ने की कोशिश जारी है, कुछ को पकड़ भी लिया गया है लेकिन अनुमान है कि आधे से अधिक को अभी पकड़ना बाकी है जो नदियों और दलदल के बीच जा चुके हैं.

रकवेना मगरमच्छ फार्म पोंतड्रिफ शहर से 15 किलोमीटर दूर है. पोंटड्रिफ़ दक्षिण अफ्रीका के पर्यटनस्थल में एक है और बोत्सवाना के साथ इसकी सीमा लगती है.

बाढ़ से बेहाल

फार्म मालिक जेन लैंगमैन ने बताया कि भागे हुए मगरमच्छ लिमपोपो नदी में चले गए हैं जो दक्षिण अफ्रीका की दूसरी सबसे बड़ी नदी है.

"जब हम मगरमच्छ के पास पहुंचे तो मगरमच्छ हमारे ईर्द गिर्द तैरने लगे, भगवान का शुक्रगुज़ार हूं कि वे सभी ज़िंदा थे"

जेन लैंगमैन, रकवेना मगरमच्छ फार्म के मालिक

उनका कहना था कि लिमपोपो नदी में बहुत कम मगरमच्छ नज़र आते थे लेकिन जब से उनके फार्म से मगरमच्छ भागे हैं वहां अधिक मगरमच्छ नज़र आने लगे हैं और अब वे लोग लिमपोपो नदी से मगरमच्छ वापस लाने की तैयारी में हैं.

इतना ही नहीं ये मगरमच्छ दूर दराज के इलाके तक पहुंच गए हैं.

फार्म के मालिक ने बताया, “मुझे सुनने में आया कि कुछ मगरमच्छ यहाँ से 120 किलोमीटर दूर मुसीना के एक स्कूल के रग्बी मैदान में देखे गए हैं.”

लैंगमैन का कहना था कि वो अपने मित्र को बाढ़ से बचाने गए थे तभी उन्होंने वहां मगरमच्छ को तैरते हुए देखा.

"जब हम उनके पास पहुंचे, मगरमच्छ हमारे ईर्द गिर्द तैरने लगे, भगवान का शुक्रगुज़ार हूं कि वे लोग ज़िंदा थे."

दक्षिण अफ्रीका में भयानक बाढ़ से कई इलाके पूरी तरह से कट गए हैं. हवाई जहाज से इन इलाकों में फंसे लोगों को निकाला जा रहा है..

बाढ़ की वजह से दक्षिण अफ्रीका के लिमपोपो प्रांत में 10 लोग मारे गए हैं.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.