जहाँ बलात्कार के बाद पीड़िता से शादी और सज़ा माफ.....

 शुक्रवार, 25 जनवरी, 2013 को 07:57 IST तक के समाचार

अमीना की मौत के बाद मोरक्को में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन हुए थे

बलात्कार पीड़ितों के अधिकारों को लेकर दुनिया भर में चर्चा चल रही है. मोरक्को की दंड संहिता के एक अनुच्छेद के मुताबिक नाबालिग लड़की के साथ बलात्कार करने वाला अगर लड़की से शादी कर ले तो उसके खिलाफ मुकदमा नहीं चलेगा.

दरअसल 10 महीने पहले 16 साल की लड़की अमीना फिलाली को ज़बरदस्ती उसी व्यक्ति से शादी करने पर मजबूर किया गया था जिसने उसका बलात्कार किया था. बाद में इस लड़की ने आत्महत्या कर ली थी.

अमीना का आरोप था कि 25 साल के मुस्तफा ने शादी के बाद उसे शारीरिक रूप से प्रताड़ित किया. हालांकि मुस्तफा इससे इनकार करते हैं. शादी के सात महीने बाद अमीना ने चूहों को मारने वाला ज़हर खा लिया था.

इस घटना ने मोरक्को में लोगों को हिला कर रख दिया था. राजधानी रबात समेत अन्य शहरों में प्रदर्शन भी हुए थे.

मोरक्को के ग्रामीण भागों में अगर कोई लड़की कौमार्य खो देती है तो माना जाता है उसने परिवार को बेइज़्जत किया है और उसे शादी लायक नहीं समझा जाता. फिर चाहे उसका कौमार्य बलात्कार की वजह से गया हो.

कई परिवार मानते हैं कि बलात्कार करने वाला ही अगर लड़की से शादी कर लेता है तो समस्या का हल निकल जाता है.

'वकील ने ही कहा था शादी के लिए'

अब मोरक्को के न्याय मंत्रालय ने दंड संहिता के अनुच्छेद 475 में संशोधन के प्रस्ताव को मंज़ूरी दी है. बलात्कार के दोषियों को कड़ी सज़ा पर विचार किया जा रहा है जिसमें नाबालिगों से बलात्कार पर 30 साल की सज़ा शामिल है.

महिला संगठनों ने इसका स्वागत किया है. लेकिन दंड संहिता में किसी भी बदलाव को संसद के दोनों सदनों को मंज़ूर करना होगा.

अनुच्छेद 475 के मुताबिक अगर कोई नाबालिग का अपहरण करता है या धोखा देता है और इसमें हिंसा या धमकी का इस्तेमाल नहीं करता तो उसे एक से तीन साल की जेल की सज़ा होगी.

लेकिन इसी अनुच्छेद की एक धारा के मुताबिक अगर अभियुक्त पीड़िता से शादी कर ले तो उसके खिलाफ मामला नहीं चला सकता. केवल वही लोग मुकदमा दायर कर सकते हैं जिन्हें शादी को खत्म करने की माँग करने का हक है. और मुकदमा दायर तभी हो सकता है जब शादी खत्म हो चुकी हो.

इस सबका मतलब है कि अभियोजन पक्ष बलात्कार के आरोपों पर आगे कदम नहीं उठाता.

जब अमीना की मौत हुई थी तो न्याय मंत्रालय ने कहा था कि मुस्तफा के साथ उसके रिश्ते आपसी सहमति से बने थे और लड़की के पिता ने याचिका डाली था कि बेटी को मुस्तफा से शादी करने दी जाए. इसके बाद अभियोजन पक्ष ने बलात्कार का मामला बंद कर दिया था.

अमीना के पिता ने एक स्थानीय वेबसाइट को बताया कि अभियोज पक्ष के वकील ने ही उनकी बेटी को सलाह दी थी कि वो शादी कर ले.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.