ढाका में गैंगरेप: नाम और देश बदला नहीं बदली तकदीर...

 शनिवार, 26 जनवरी, 2013 को 11:39 IST तक के समाचार
ढाका में बलात्कार पर विरोध

सैकड़ों लोग सड़कों पर उतरे

बांग्लादेश की राजधानी ढाका में गुरुवार को दिल्ली सामूहिक बलात्कार कांड की यादें ताजा हो गई जब एक चलती बस में एक महिला से सामूहिक बलात्कार किया गया.

इस घटना के विरोध में सैकड़ों ने लोगों ने प्रदर्शन किया. इस मामले में बस ड्राइवर और एक अन्य व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है.

अधिकारियों के अनुसार उन्हें शुक्रवार को एक अदालत में पेश किया गया और अभियुक्तों ने अपने ऊपर लगे आरोप कबूल लिए हैं. अदालत ने उन्हें जेल भेज दिया है.

लेकिन अभियुक्तों की गिरफ्तारी से पहले गुस्साई भीड़ ने उन पर हमला कर दिया.

मीडिया खबरों के अनुसार अभियुक्तों ने बताया कि ढाका के बाहरी इलाके मनिकगंज में उन्होंने कपड़ों की फैक्ट्री में काम करने वाली एक महिला को बहकाकर खाली बस में बिठा लिया और फिर उसका सामूहिक बलात्कार किया. इसके बाद उन्होंने कथित रूप से महिला को बस से फेंक दिया जिससे उसे चोटें आईं.

बलात्कार का विरोध

समाचार एजेंसी पीटीआई के साथ बातचीत में मनिकगंज के सहायक पुलिस अधीक्षक कमरुल इस्लाम ने बताया, “बस ड्राइवर और हेल्पर ने अदालत के सामने बलात्कार करने की बात कबूल ली है.”

लोगों में इस घटना को लेकर खासा रोष है. हजारों लोगों ने सड़कों पर उतर विरोध जताया. वो अभियुक्तों के लिए कड़ी सजा की मांग कर रहे हैं.

"बस ड्राइवर और हेल्पर ने अदालत के सामने बलात्कार करने की बात कबूल ली है."

कमरुल इस्लाम, पुलिस अधिकारी

दर्जनों महिला संगठनों और नागरिक अधिकार समूहों ने प्रदर्शनों का नेतृत्व किया.

अभियुक्तों की उम्र 20 वर्ष से ऊपर बताई जाती है.

पुलिस अधिकारी ने बताया, “हमने उनकी रिमांड नहीं मांगी है क्योंकि वो अदालत के सामने स्वीकार कर चुके हैं कि उन्होंने क्या किया है.”

पुलिस का कहना है कि अस्पताल में इलाज के बाद पीड़िता को घर भेज दिया गया है.

भारत की राजधानी दिल्ली में पिछले महीने चलती बस में एक 23 वर्षीय युवती के साथ सामूहिक बलात्कार और बर्बर हिंसा की गई. कई दिनों तक अस्पताल में रहने के बाद उसने सिंगापुर के अस्तपाल में दम तोड़ दिया.

इस घटना के बाद भारत में न सिर्फ लोगों में व्यापक रोष है बल्कि महिलाओं की सुरक्षा को लेकर एक नई बहस छिड़ी है.

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.