क्या अमरीका ड्रोन हमले बंद करेगा?

 शुक्रवार, 25 जनवरी, 2013 को 08:12 IST तक के समाचार

ओबामा ने जॉन कैरी को मंत्री पद के लिए नामांकित किया है

दोबारा अमरीका के राष्ट्रपति चुने जाने के बाद बराक ओबामा के सामने कई घरेलू और अंतरराष्ट्रीय चुनौतियाँ हैं.

अमरीका के नए विदेश मंत्री, रक्षा मंत्री और सीआईए निदेशक के कंधों पर काफी बड़ी जिम्मेदारी होगी कि वे एक टीम के तरह काम करें.

क्लिक करें ओबामा के आने से कितनी बदली दुनिया

इसमें दूसरे देशों के साथ मिलकर काम करना, विवादित मुद्दों पर सर्वसम्मति बनाना और ऐसे फैसले लेना शामिल है जो कानूनी रूप से वैध हों. ईरान, अफगानिस्तान, पाकिस्तान और सीरिया जैसे मुद्दों पर क्या हैं अमरीका और नए मंत्रियों की चुनौतियाँ आइए नज़र डालते हैं.

ईरान

ईरान पर फिलहाल अमरीका ने प्रतिबंध लगा रखे हैं लेकिन माना जा रहा है कि इनसे ईरान की सोच और नीति पर खास फर्क नहीं पड़ने वाला. इतिहास इसी बात की गवाही देता है कि वर्तमान नीति मुश्किल राह पर चलने वाली नीति है और इसमें वक़्त लगेगा.

नए सीआईए निदेशक का काम होगा ईरान के असल इरादों और परमाणु कार्यक्रम में प्रगित के बारे में पता लगाना. जबकि नए विदेशी मंत्री को ये देखना होगा कि सैन्य कार्रवाई से बचने के लिए प्यार्त कूटनीतिक कदम उठाए जाएँ. लेकिन ये भी सच है कि ईरान में जून में होने वाले चुनाव से पहले कुछ भी संभव नहीं हो पाएगा.

अफगानिस्तान

अमरीका के नए रक्षा मंत्री का मुख्य काम होगा कि अफगानिस्तान में युद्ध के अंत के बाद चीज़ों को कैसे संभाला जाए. अमरीकी सैनिकों की वापसी के बाद वहाँ बचे सैन्य मिशन की रूप रेखा क्या होनी चाहिए ये भी तय करना होगा.

क्लिक करें क्या वैध हैं ड्रोन हमले?

वहीं अफगानिस्तान की राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक प्रगति पर भी नज़र रखनी होगी. लेकिन इसके लिए कटूनयिकों को अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करनी होगी- ख़ासकर लीबिया में अमरीकी दूतावास पर हमले के बाद.

अफगानिस्तान, पाकिस्तान और तालिबान के बीच बातचीत का नतीजा इस बात पर निर्भर करेगा कि अमरीका अमरीका कबाइली इलाकों में ड्रोन हमले जारी रखता है या नहीं.

इस बात पर भी अमरीका को फैसला लेना होगा कि 2014 के बाद अफगानिस्तान में क्लिक करें ड्रोन हमलों का रूप क्या होना चाहिए.

सीरिया

क्लिक करें सीरिया में सैन्य हस्तक्षेप करने का अभी अमरीका में माहौल नहीं है. अमरीकी नीति यही रही है कि वो राष्ट्रपति असद के जाने के सत्ता से जाने का इंतज़ार कर रहा है.

अमरीका ने हाल ही में सीरियाई विपक्ष को सीरियाई लोगों के प्रतिनिधि के रूप में स्वीकार किया है.

कुछ समय पहले ऐसी (अपुष्ट) ख़बरें आई थीं कि सीरिया ने रासायनिक हथियारों से हमला किया है. लेकिन अमरीका को ये स्पष्ट करना होगा कि अगर असद ऐसा करते हैं तो वो उचित कदम उठाएगा.

बजट

आर्थिक संकट के दौर में अमरीकी बजट में होने वाली कटौती पर सबकी नज़र रहेगी.

अगर बजट में कटौती होती है तो नए मंत्रियों की टीम को स्पष्ट करना कि इसका सामरिक मामलों पर क्या असर होगा.

(पीजे क्राउली, पूर्व उप विदेश मंत्री के लेख के अंश)

इसे भी पढ़ें

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.