फ्रांस में महिलाओं के पैंट पहनने पर रोक हटी

  • 5 फरवरी 2013
वालाउद बेल्कासेन
Image caption वालाउद बेल्कासेन का कहना है कि अब इस कानून की कोई जरूरत नहीं है

फ्रांस की सरकार ने दो सौ साल पुराने उस प्रतिबंध को खत्म कर दिया है जिसके मुताबिक वहां महिलाओं को पैंट पहनने की मनाही थी.

महिला अधिकार मंत्री नजत वालाउद बेल्कासेन ने कहा कि ये प्रतिबंध फ्रांस के अधुनिक मूल्यों और कानूनों के अनुरूप नहीं है.

उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में 17 नवंबर 1800 को लागू ये कानून व्यवहारिक जीवन में पहले ही निष्प्रभावी हो चुका है.

लेकिन अब फ्रांसीसी सरकार ने इस कानून को औपचारिक तौर पर खत्म कर दिया है. पिछली संसद में इसे लेकर सवाल उठाए गए थे.

क्या था कानून?

इस कानून के अनुसार अगर महिलाएं पुरूषों की तरह कपड़े और पैंट पहनना चाहती हैं तो इसके लिए उन्हें स्थानीय पुलिस की अनुमति लेनी होगी.

हालांकि दशकों से इस कानून पर कोई अमल नहीं हो रहा था, लेकिन औपचारिक तौर पर ये कानून की किताबों में मौजूद था.

वालाउद बेल्कासेन बताती हैं कि मूल रूप से इस कानून का मकसद महिलाओं को कुछ निश्चित नौकरियां करने से रोकना था.

वो कहती हैं, “पुरूषों की तरह कपड़े पहनने से रोकने के इस आदेश का मकसद महिलाओं को कुछ दफ्तरों या पेशों में जाने से रोकना था.”

इस कानून में 1892 और 1909 में बदलाव किया गया था और महिलाओं को साइकल का हैंडल या घोड़े की लगाम संभालने की स्थिति में पैंट पहनने की अनुमति दी गई.

फ्रांसीसी क्रांति के दौरान पैरिस की महिलाओं ने पैंट पहनने का अधिकार मांगा था और कामकाजी क्रांतिकारी महिलाओं पैंट पहनने की वजह से खासी चर्चा में रहती थीं.

संबंधित समाचार