पोप के दर्शन के लिए उमड़े हज़ारों लोग

pope
Image caption पोप ने इस महीने के आखिर में अपने पद से इस्तीफ़े की घोषणा की है

हज़ारों कैथोलिक ईसाई श्रद्घालुओं ने रविवार को रोम के सेंट पीटर्स स्क्वायर में पोप बेनेडिक्ट 16वें की सार्वजनिक सभा में हिस्सा लिया.

पोप 28 फ़रवरी को अपना पद छोड़ रहे हैं और ये उनकी अंतिम सार्वजनिक सभाओं में से एक है.

कैथोलिक ईसाइयों के सबसे बड़े धर्मगुरु वेटिकन के पोप ने इस महीने के आख़िर में अपने पद से इस्तीफ़े की घोषणा की है. पोप ने प्रार्थना पढ़ी और साथ ही पिछले कुछ दिनों के दौरान उनके स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना करने वाले लोगों को धन्यवाद दिया.

85 वर्षीय पोप बेनेडिक्ट 16वें ने पिछले सोमवार को ख़राब स्वास्थ्य के कारण अपना पद छोड़ने की घोषणा की थी. वह अप्रैल 2005 में पोप जॉन पॉल द्वितीय के निधन के बाद पोप बने थे.

पोप ग्रीनविच समयानुसार सुबह 11 बजे सेंट पीटर्स स्क्वायर के सामने अपने अध्ययन कक्ष की खिड़की पर आए. पद छोड़ने की घोषणा के बाद ये उनका पहला सार्वजनिक कार्यक्रम था.

पोप ज़िंदाबाद के नारे

उनकी झलक पाते ही सेंट पीटर्स स्क्वायर पर मौजूद हज़ारों श्रद्घालुओं ने गर्मजोशी के साथ उनका स्वागत किया और पोप ज़िंदाबाद के नारे लगाए. स्क्वायर पर लगे एक बैनर पर लिखा था ‘हम आपसे प्यार करते हैं’.

पोप ने लोगों से अपने जीवन में ईश्वर के लिए समय निकालने का आग्रह किया. उन्होंने कहा, "चर्च अपने सभी सदस्यों से अपने जीवन को नए सिरे से ढ़ालने का आह्वान करता है जिसमें आध्यात्मिक संघर्ष के लिए जगह हो क्योंकि शैतानी ताक़तें हमें ईश्वर के मार्ग से दूर ले जाना चाहती हैं.”

पोप ने कई भाषाओं में उदबोधन किया. स्पेनिश भाषा में बोलते हुए उन्होंने कहा, “मैं आपसे विनती करता हूं कि आप मेरे और अगले पोप के लिए प्रार्थना करते रहें.”

ग्रीष्मकालीन आवास जाएंगे

Image caption हज़ारों श्रद्घालुओं ने सार्वजनिक सभा में हिस्सा लिया

पोप 24 फ़रवरी को फिर एक बार फिर सार्वजनिक सभा में हिस्सा लेंगे और फिर 27 फ़रवरी को अंतिम बार सेंट पीटर्स स्क्वायर पर नज़र आएंगे. अगले दिन वो अपने ग्रीष्मकालीन आवास कासल गेंडॉल्फो जाएंगे और पोप की ज़िम्मेदारी से मुक्त होने के बाद वहां वेटिकन द्वारा बनाए गए आवास में रहेंगे.

जर्मनी में पैदा हुए कार्डिनल जोसेफ़ रैटज़िंगर 78 वर्ष की उम्र में पोप बने थे. उनके कार्यकाल में दशकों में पहली बार चर्च के पादरियों द्वारा बाल यौन उत्पीड़न के संगीन आरोप लगे थे.

इस बीच वेटिकन ने कहा है कि नया पोप चुनने की प्रक्रिया तय कार्यक्रम से जल्दी शुरु की जाएगी ताकि 24 मार्च से शुरु हो रहे पवित्र सप्ताह से पहले वो अपना पद संभाल सके.

संबंधित समाचार