वेनेज़ुएला में राष्ट्रपति चुनाव अप्रैल में

Image caption ह्यूगो चावेज़ ने करीब 14 साल तक वेनेजुएला पर शासन किया

राष्ट्रपति ह्यूगो चावेज़ के राजकीय सम्मान से हुए अंतिम संस्कार के बाद वेनेज़ुएला के चुनाव आयोग ने घोषणा की है कि राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव इस साल 14 अप्रैल को कराए जाएंगे.

चुनाव की घोषणा चावेज़ के उत्तराधिकारी 50 साल के निकोलस मेडुरो के कार्यकारी राष्ट्रपति को रूप में शपथ लेने के साथ ही हुई है.

ह्यूगो चावेज़ का लंबी बीमारी के बाद पांच मार्च को निधन हो गया था. वे कैंसर से पीड़ित थे.

कौन है दावेदार

राष्ट्रपति चुनाव में निकोलस मेडुरो सत्ताधारी पार्टी के उम्मीदवार होंगे, जबकि विपक्षी गठबंधन ने हेंरिक कैपराइल्स को अपना उम्मीदवार घोषित किया है.

चावेज़ ने करीब 14 साल तक वेनेज़ुएला का नेतृत्व किया. पिछले साल अक्तूबर में हुए चुनाव में उन्होंने कैपराइल्स को हराया था. चावेज को 54 फ़ीसदी और कैपराइल्स को 44 फ़ीसदी वोट मिले थे.

चावेज़ की जब सेहत ख़राब होने लगी थी तो उन्होंने घोषणा की थी कि निकोलस मेडुरो को उनका उत्तराधिकारी होना चाहिए.

मेडुरो ने वादा किया है कि वे पूर्व राष्ट्रपति की वामपंथी नीतियों को आगे ले जाएंगे. वहीं कुछ सर्वेक्षणों में मेडुरो के चुनाव जीतने वाला पसंदीदा उम्मीदवार बताया गया है.

Image caption निकोलस मेडुरो और हेंरिक कैपराइल्स को राष्ट्रपति पद के मुख्य दावेदार हैं

चुनाव आयोग की प्रमुख टिबिसी लूसेना ने कहा है कि राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार सोमवार से चुनाव के लिए नाम दर्ज करा सकते हैं.

चुनाव की घोषणा होने के बाद देश की विपक्षी गठबंधन के प्रमुख ने 40 साल के हेंरिक कैपराइल्स को अपना उम्मीदवार घोषित किया. पेशे से एक वकील मिरांडा राज्य के गवर्नर हैं.

इसके कुछ देर बाद ही हेंरिक कैपराइल्स ने माइक्रो ब्लागिंग वेबसाइट ट्विटर पर लिखा कि वे इसके लिए आभारी है. उन्होंने लिखा कि वे चुनाव आयोग की घोषणा का विश्लेषण कर रहे हैं.

ब्राजील के पू्र्व राष्ट्रपित लूला डी सिल्वा को अपना आदर्श बताते हुए उन्होंने अपनी नीतियों को मध्यमार्गी और मानवतादी बताया. उन्होंने कहा कि लूला डी सिल्वा ने सामाजिक परियोजनाओं को आगे बढ़ाते हुए व्यापारियों और निवेशकों को बढ़ावा दिया.

शुक्रवार को निकोलस मेडुरो के शपक्ष ग्रहण समारोह को असंवैधानिक बताते हुए विपक्ष ने उसका बहिष्कार किया था.

संबंधित समाचार