उत्तर कोरिया की हमले की धमकी पर अमरीका गंभीर

  • 27 मार्च 2013
उत्तर कोरिया की धमकी
उत्तर कोरिया प्रशांत क्षेत्र में अमरीकी ठिकानों को निशाना बनाने में सक्षम है

अमरीका ने कहा है कि वो प्रशांत क्षेत्र में अमरीकी सैन्य अड्डे को निशाना बनाने की उत्तर कोरिया की ताजा धमकी को गंभीरता से रहा है.

अमरीकी रक्षा विभाग पेंटागन के प्रवक्ता जॉर्ज लिटल ने कहा कि अमरीका किसी भी आपातस्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं लेकिन उन्होंने उत्तर कोरिया से आग्रह किया कि वो धमकियां देना बंद करे.

अमरीकी प्रवक्ता के मुताबिक उत्तर कोरिया के व्यवहार से खुद उसी के हितों को नुकसान हो रहा है.

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा ? डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें)

लिटल ने कहा, “उत्तर कोरिया की भड़काऊ बयानबाजी और धमकियां सोची समझी योजना का हिस्सा है जिसका मकसद तनाव को बढ़ाना और दूसरों को भड़काना है. हम बराबर कहते हैं कि उत्तर कोरिया को इन धमकियों और उकसाव वाले बयानों से कुछ हासिल नहीं होगा. इनसे उत्तर कोरिया और अलग थलग पड़ेगा और पूर्वोत्तर एशिया में शांति और स्थिरता कायम करने की कोशिशें कमजोर होंगी.”

बढ़ता तनाव

इससे पहले उत्तर कोरिया की हाई कमांड ने कहा कि वो लंबी दूरी तक मार करने वाले हथियारों और रणनीतिक रॉकेटों को हाई अलर्ट पर रख रहा है ताकि प्रशांत क्षेत्र में अमरीकी ठिकानों पर संभावित हमले किए जा सकें.

उत्तर कोरिया की सरकारी समाचार एजेंसी केसीएनए की ख़बर में कहा गया है कि सेना को हवाई, गुआम और अमरीकी मुख्यभूमि पर हमले के लिए तैयार रहने को कहा गया है. उत्तर कोरिया की तरफ से कई दिनों से हो रही बयानबाजी के बाद ये ताजा बयान आया है.

पिछले महीने ही उत्तर कोरिया अपना तीसरा परमाणु परीक्षण किया है. तभी से कोरियाई प्रायद्वीव तनाव बढ़ रहा है. इस परीक्षण के संयुक्त राष्ट्र ने उत्तर कोरिया के खिलाफ कड़े प्रतिबंध लगाए.

उत्तर कोरिया के मीडिया के जरिए दी गई हमले की धमकी

दक्षिण कोरिया और अमरीका के साझा सैन्य अभ्यास से भी कम्युनिस्ट कोरिया की नाराजगी बढ़ी है. इसीलिए हाल के हफ्ते में उत्तर कोरिया की तरफ से अकसर होने वाली भड़काऊ बयानबाजी बढ़ गई है.

उत्तर कोरिया अमरीका और जापान में अमरीकी ठिकानों पर हमले की धमकियां दे चुका है.

माना जाता है कि उत्तर कोरिया के पास फिलहाल अमरीका की मुख्यभूमि पर परमाणु हथियारों या अन्य हथियारों से हमला करने की तकनीक नहीं है, लेकिन वो अपनी मध्यम दूरी की मिसाइलों के जरिए प्रशांत क्षेत्र में अमरीकी सैन्य अड्डों को निशाना बनाने में सक्षम है.

दूसरी तरफ दक्षिण कोरिया की राष्ट्रपति पार्क गुएन हाय ने उत्तर कोरिया से कहा है कि वो परमाणु हथियारों को त्यागे.

संबंधित समाचार