गूगल को 'अनगूगलेबल' शब्द पर ऐतराज

  • 27 मार्च 2013
गूगल
Image caption गूगल ने स्वीडन भाषा परिषद से की है शिकायत

स्वीडन की भाषा परिषद का कहना है कि सर्च इंजन कंपनी गूगल द्वारा ऐतराज़ जताए जाने के बाद स्वीडन के नए शब्दों की सूची से ‘अनगूगलेबल’ शब्द हटाना पड़ा है.

स्वीडन की भाषा परिषद के मुताबिक ‘अनगूगलेबल’ या ‘ओगूगलबार’ की परिभाषा है - जिसे किसी सर्च इंजन से ढूंढा न जा सके.

परिषद के मुताबिक गूगल की मांग यह थी कि ‘अनगूगलेबल’ की परिभाषा हो - जिसे गूगल सर्च इंजन से ढूंढा ना जा सके.

गूगल ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि उसे अपने विशिष्ट ट्रेडमार्क यानि व्यापारिक चिन्ह को बरकरार रखने के लिए ऐसा करना जरूरी है.

समाज और भाषा में बदलाव को दर्शाने के लिए भाषा पर नज़र रखने वाली यह संस्था हर साल 10 प्रमुख नए शब्दों को प्रकाशित कराती है जो स्वीडन में लोकप्रिय हुए हैं.

परिषद की प्रमुख एन सीडरबर्ग ने बीबीसी से कहा कि, पिछले साल दिसंबर में शब्दों की सूची के प्रकाशित होने के तुरंत बाद उन्हें गूगल से एक ईमेल मिला जिसमें गूगल ब्रांड के संरक्षण की बात की गई थी.

गूगल को ऐतराज

इस मेल में स्वीडन की भाषा परिषद की परिभाषा में बदलाव करने के साथ ही इसे सूची से हटाने पर जोर देते हुए कहा गया कि गूगल एक ट्रेडमार्क है.

लंबी कानूनी लड़ाई की संभावना से चिंतित परिषद ने इन शब्दों की परिभाषा को बदलने के विचार को टालते हुए इन्हें सूची से ही हटा दिया है.

बीबीसी से सीडरबर्ग ने कहा, “मैं किसी कंपनी के निर्देशों से प्रभावित नहीं होना चाहती लेकिन इस समस्या को हल करने का यही एक तरीका था.”

उनका कहना था, “हम अदालत में नहीं जा सकते थे. हमारे पास यही एक रास्ता था कि सूची से शब्द को हटा दें और दुनिया को इसकी जानकारी दें.”

स्वीडन की भाषा परिषद की वेबसाइट पर एक बयान है जिसमें कहा गया है, “भाषा कौन तय करता है? हम लोग और भाषा का इस्तेमाल करने वाले लोग ऐसा करते हैं. हम मिलकर तय करते हैं कि हम कौनसा शब्द कैसे इस्तेमाल करेंगे, उन्हें कैसे बोलेंगे और उनकी परिभाषा क्या होगी.”

इस मसले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए बीबीसी से गूगल के प्रवक्ता ने कहा, “कई दूसरी कंपनियों की तरह गूगल भी अपने ट्रेडमार्क के संरक्षण के लिए नियमित तौर पर ऐसे कदम उठाती है. हमें इस बात की ख़ुशी है कि यूज़र सर्च नतीजे को गूगल नाम से जोड़ते हैं.”

संबंधित समाचार