9/11के मलबे में मानव अवशेषों की खोज

9/11 को न्यूयॉर्क में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए हमलों के दौरान मारे गए लोगों की पहचान के लिए हादसे की जगह के मलबे की पड़ताल दोबारा शुरु की गई है.

पहले इस मलबे में मानव अवशेषों को खोजा जाएगा और फिर उसकी डीएनए जांच की जाएगी.

न्यूयार्क के अधिकारियों का कहना है कि मानव अवशेषों की पड़ताल के लिए वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के मलबे को शहर से बाहर भेजा जा रहा है.

उप मेयर कॅस होलोवे ने बीते शुक्रवार को बताया था कि हर मानव अवशेष की पहचान को संभव बनाने के लिए डीएनए परीक्षण विधि का इस्तेमाल किया जाएगा.

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा ? डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें)

मृतकों की पहचान

इस मलबे को एकत्र करने में दो साल से भी अधिक का समय लगा है. एकत्रित मलबा इतना ज़्यादा है कि उससे 60 लारियां भरी जा चुकी हैं.

इन लॉरियों में भरे मलबे का परीक्षण अगले 10 हफ्तों में स्टेटन द्वीप में किया जाएगा.

11 सितंबर 2001 के हमलों में लगभग 2750 लोग मारे गए थे.

इनमें अब तक 1634 पीड़ितों की पहचान की जा चुकी है.

न्यूयॉर्क शहर के चिकित्सा परीक्षक ने सोमवार को बताया कि मलबे में मानव अवशेषों की खोज के व्यापक स्तर पर काम शुरू किया जा रहा है.

2006 के बाद से ही विभाग ने डीएनए टेस्टिंग के ज़रिए 34 पीड़ितों की पहचान की है और 2345 संभावित मानव अवशेषों की पड़ताल की है.

ध्वस्त जुड़वां टावरों की जगह पर एक नई गगनचुंबी इमारत वन वर्ल्ड ट्रेड सेंटर का निर्माण जारी है.

निर्माण पूरा होने के बाद ये इमारत पश्चिमी गोलार्द्ध की सबसे ऊंची इमारत बन जाएगी.

संबंधित समाचार