'पैंतालिस मिनट की मौत' के बाद मिली ज़िंदगी

  • 9 अप्रैल 2013
कैरोल ब्रादर्स
Image caption कैरोल ब्रादर्स को लेकर चिकित्सकों ने भी उम्मीद छोड़ दी थी.

एक औरत जिनके दिल ने 45 मिनट तक काम करना बंद कर दिया था और जिनके बारे में समझा गया था कि वो मर चुकी है, अब उनकी सेहत बहाल हो रही है.

ब्रिटेन के ईस्टेर्टन की निवासी कैरोल ब्रादर्स को पिछले माह उनके घर के बाहर दिल का दौरा पड़ा और वो बेहोश हो गईं.

पैराचिकित्सकों ने उनके दिल को फिर से चालू किया और उन्हें हेलिकॉप्टर की मदद से अस्पताल ले जाया गया.

लेकिन चिकित्सकों का कहना था कि परिवार को किसी तरह के सदमे के लिए तैयार रहना चाहिए.

उनकी बेटी, मैक्सिन डिकिन्सन ने कहा, "डॉक्टरो ने तो उन्हें मरने के लिए छोड़ दिया था, लेकिन वो जीवित बच गईं."

रास्ते में मौत

उनके पति डेविड का कहना था कि कैरोल बेटी के साथ शापिंग से वापस आ रही थीं जब वो बेहोश हो गईं.

डेविड कहते हैं कि दोनों घर में घुसीं, और उनकी बेटी चिल्लाने लगी, लेकिन कैरोल उन्हें नहीं दिख रही थीं.

कैरोल की बेटी उनकी छाती पर दबाव डालकर ह्रदय को फिर से जीवित करने की कोशिश करने लगी लेकिन साथ ही उन्हें ये भी लगा रहा था कि उनकी मां रास्ते में मरी पड़ी है.

वो कहती है कि वो बहुत गहरे सदमे में थी.

वो कहती है कि उसके बाद पैराचिकित्सकों का दल वहां पहुंच गया और वो लोग वहां से हट गईं क्योंकि वो अपनी मां को इस हाल में नहीं देख सकती थीं.

चमत्कार

लेकिन उन्होंने सीपीआर जारी रखा, जो लगभग 45 मिनट तक चला, जिसके बाद उनकी घड़कन वापस आ गई.

हालांकि बाद में वो अस्पताल पहुंचाई गईं लेकिन डॉक्टरों को लगा कि उनके दिमाग में किसी तरह की प्रतिक्रिया नहीं हो रही है, जिसके बाद उन्हें दिए जा रहे मेडिकल सपोर्ट को हटा लिया गया.

लेकिन शायद ये करिश्मा था कि उन्होंने बाद में आंखे खोल दीं और अब बेहतर हो रही है.

संबंधित समाचार