माडुरो चुने गए वेनेजुएला के राष्ट्रपति

कैपराइल्स
Image caption पिछले साल चुनाव में ह्यूगो चावेज ने विपक्षी उम्मीदवार को 10 फ़ीसद से अधिक मतों के अंतर से हराया था.

समाजवादी नेता निकोलस माडुरो ने एक कड़े मुकाबले में वेनेजुएला के राष्ट्रपति का चुनाव जीत लिया है.

मेडुरो को 50.7 फ़ीसदी और विपक्ष के उम्मीदवार हेनरिक कैपरिल्स को 49.1 फ़ीसदी वोट मिले.

धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए कैपरिल्स ने वोटों की दोबारा गिनती कराने की मांग की है. उन्होंने कहा कि रविवार को मतदान में तीन लाख से अधिक मामलों की जांच की जरूरत है.

इस बीच, चुनाव आयोग ने कहा है कि नतीजे बदले नही जा सकते हैं.

संवैधानिक जीत

राष्ट्रपति निवास के बाहर खुशियां मानने के लिए जमा हुई भीड़ को संबोधित करते हुए माडुरो ने कहा कि उनकी जीत कानूनी और संवैधानिक है.

वेनेजुएला के झंडे के रंग के कपड़े पहने हुए मेडुरो ने कहा कि नतीजों ने यह दिखा दिया है कि ह्यूगो चावेज अपराजेय हैं और वे लड़ाई जीतते रहेंगे.

जीत के वाद माडुरो के समर्थकों ने जहां जमकर आतिशबाजी की और कार के हार्न बजाए, वहीं विपक्ष समर्थकों ने बर्तन बजाए.

मेडुरो ने कहा कि उन्होंने कैपरिल्स से टेलीफोन पर बातचीत की है और वे नतीजों की समीक्षा की अनुमति देंगे.

उन्होंने देश के लिए उन लोगों से भी एक जुट होकर करने की अपील की,जिन्होंने उन्हें वोट नहीं दिया है.

माडुरो ने बहुत कम मतों के अंतर से कैपरिल्स को हराया है. इसके पहले पिछले साल हुए चुनाव में ह्यूगो चावेज ने कैपरिल्स को दस फ़ीसदी के अधिक के अंतर से हराया था. इस दौरान क़रीब 80 फ़ीसदी मतदाताओं ने मतदान किया था.

पिछले महीने की पांच तारीख को राष्ट्रपति ह्यूगो चावेज की मौत के बाद मुडुरो को देश का कार्यवाहक राष्ट्रपति बनाया गया था.

माडुरो 19 अप्रैल को शपथ लेंगे और वे इस पद पर जनवरी 2019 तक बने रहेंगे.

संबंधित समाचार