घाना: 11 करोड़ दोषपूर्ण चीनी कंडोम ज़ब्त

Image caption एफडीए का कहना है कि कंडोम पर्याप्त रूप से लुब्रिकेटेड भी नहीं हैं.

अफ्रीकी देश घाना में 11 करोड़ से ज़्यादा चीन निर्मित कंडोम ज़ब्त किए गए हैं. अधिकारियों का कहना है कि प्रयोगशाला परीक्षण में इनमें दोष पाया गया है.

खाद्य और औषधि विभाग के प्रवक्ता ने बीबीसी को बताया, "कंडोम में छेद हैं और वो आसानी से फट जाते हैं."

घाना की स्वास्थ्य सेवा द्वारा चलाए जा रहे एड्स से बचाव के अभियान के तहत कंडोम मुफ्त में बांटे जाते हैं.

खबर के मुताबिक क़रीब 20 करोड़ दोषपूर्ण कंडोम देश में आयातित किए गए हैं.

घाना की राजधानी अक्रा में मौजूद बीबीसी संवाददाता सैमी डार्को का कहना है कि चीन से आयातित दोषपूर्ण कंडोम की पैकिंग सिल्वर रंग की है और उसके ऊपर एड्स के निशान के साथ लाल रंग से लिखा है "बी सेफ़" यानी सुरक्षित रहें.

देश के खाद्य और औषधि विभाग ने इन कंडोमों के सुरक्षा मानक को लेकर अलर्ट जारी किया है.

चीन से आयात

एफडीए यानी खाद्य और औषधि विभाग के प्रमुख थॉमस अमेज्रो ने बताया कि ये दोषपूर्ण कंडोम केन्या के रास्ते एक चीनी उत्पादक से मंगाए गए हैं.

Image caption घाना में दो लाख 30 हज़ार लोग एचआईवी से पीड़ित हैं.

उन्होंने ये भी कहा कि सभी आयातित कंडोमों का वितरित किए जाने से पहले एफडीए द्वारा जांच होना ज़रूरी है, लेकिन शायद कहीं चूक हुई है.

अमेज्रो ने बीबीसी को बताया कि कोई भी व्यक्ति जो इन दोषपूर्ण कंडोमों का इस्तेमाल करता है, उसे यौन संक्रमण हो सकता है और उसके साथी को अनचाहे गर्भ की समस्या से जूझना पड़ सकता है.

उन्होंने कहा, "आपको कंडोम में छेद नंगी आंखों से नज़र नहीं आएंगे लेकिन अगर माइक्रोस्कोप से देखा जाए तो ये छेद साफ़ नज़र आते हैं."

एफडीए का कहना है कि ये कंडोम पर्याप्त रूप से लुब्रिकेटेड भी नहीं हैं.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि घाना की स्वास्थ्य सेवा ने आयातित कंडोम की डिलिवरी इस साल फ़रवरी में ली जबकि वो घाना में 2012 की आखिरी तिमाही में ही पहुंच गए थे.

अब घाना में एक प्रचार अभियान चलाया जा रहा है ताकि सभी असुरक्षित कंडोमों की बरामदगी सुनिश्चित की जा सके.

संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के अनुसार ढाई करोड़ की आबादी वाले घाना में दो लाख 30 हज़ार लोग एचआईवी से पीड़ित हैं.

संबंधित समाचार