रुढ़िवादी यहूदियों के लिए 'सेक्स गाइड'

Image caption इस किताब का हिब्रू भाषा का संस्करण अगले कुछ हफ़्तों में बाजार में आ जाएगा

इसराइल के रुढ़िवादी यहूदियों के लिए सेक्स एक संवेदनशील विषय है. लेकिन इसी समुदाय को ध्यान में रखकर येरूशलम के एक डॉक्टर ने सेक्स गाइड लिखी है.

येरूशलम के बीच में स्थित डॉक्टर डेविड रिबनर के दफ़्तर के रास्ते में पहले एक सेक्स शॉप हुआ करती थी.

इस दुकान का साइन बोर्ड अब भी लगा हुआ है, थोड़ी कोशिश कर इस पर आप लाल अक्षरों में लिखे ‘सेक्स शॉप, सेक्स लव’ को पढ़ सकते हैं, हालांकि इसे किसी ने खुरच दिया है.

येरूशलम की सेक्स की यह एकमात्र दुकान अब नहीं चलती है. लेकिन इस धर्मपरायण शहर के लिए यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है.

लेकिन रिबनर के दफ़्तर की बात ही अलग है. यहां डिब्बों में लुब्रिकेंट्स, वाइब्रेटर और मालिश वाले तेल और किताबें सजी हुई हैं. इन किताबों में 'दि ज्वाय ऑफ़ सेक्स एंड गाइड टू गेटिंग इट' और कुछ धार्मिक किताबें शामिल हैं.

रूढ़िवादी समाज

मैं रिबनर से कहता हूं कि मैंने किताबों की ऐसी आलमारी पहले कभी नहीं देखा, इस पर वे कहते हैं, शायद ऐसी कोई है भी नहीं.

रिबनर का जन्म अमरीकी शहर न्यूयार्क में हुआ था. उन्होंने धार्मिक शिक्षा के साथ-साथ समाज कार्य में पीएचडी की है.

इसके बाद वे इसराइल चले आए. यहां वे पिछले 30 साल से धर्मनिष्ठ यहूदी रोगियों का इलाज कर रहे हैं. उन्होंने तेल अवीव बार इलान विश्वविद्यालय में सेक्स चिकित्सा पर एक प्रशिक्षण कार्यक्रम भी शुरू किया था.

वे कहते हैं कि रूढिवादी यहूदियों के लिए सेक्स मैनुअल का प्रकाशन बहुत पहले से अपेक्षित था.

रिबनर बताते हैं कि रूढ़िवादी यहूदी लड़के और लड़कियां अलग-अलग पढ़ाई करते हैं और शादी के बाद पहली रात में जब वे मिलते हैं, तब तक उनका आपसी संपर्क बहुत कम हुआ होता है.

उन्हें पति या कुछ क़रीबी पारिवारिक सदस्यों के साथ ही हाथ मिलाने जैसे शारीरिक संपर्क की इजाजत होती है. फ़िल्म देखने और इंटरनेट के इस्तेमाल पर पाबंदी है.

रिबनर बताते हैं, ''हम चाहते थे कि एक ऐसी जगह हो जहां लोग कहें,‘मैं कुछ नहीं जानता हूं और कुछ जानना चाहता हूं.''

रिबनर ने जेनी रोजीफ़िल्ड के साथ मिलकर नव विवाहित युगलों के यौन संबंध को लेकर एक गाइड लिखी है. इसमें उन्होंने छोटी-छोटी बातों का विश्वेषण किया, जैसे स्त्री-पुरुष के शरीर की बनावट में क्या अतंर होता है.

वर्जित विषय

रिबनर बताते हैं कि यहूदी धर्म में सेक्स को कुछ सकारात्मक माना गया है. लेकिन इस पर खुलकर बात करना वर्जित हो गया है.

ऐसे में यह किताब एक अज्ञात क्षेत्र में प्रवेश करती है. किताब के पीछे एक सीलबंद लिफाफा लगा है. इस पर लिखा है कि इसके अंदर कुछ कामुक चित्र हैं, अगर आप उन्हें नहीं देखना चाहते हैं तो आप लिफाफे को नोचकर फेंक दें.

एक लिफाफे को खोलकर रिबनर मुझे दिखाते हैं, उसमें शुरुआती यौन क्रिया संबंधी तीन चित्र हैं.

रिबनर बताते हैं, ''हम लोगों को केवल यह नहीं बताना चाहते थे कि वे अपने जननांग को कहाँ रखें, बल्कि यह भी बताना चाहते थे कि वे अपने हाथ और पैर कहां रखें. इसे बिना चेहरे वाले रेखाचित्रों से समझाना आसान है."

यरूशलम के यौन रोग विशेषज्ञ डॉक्टर नाचशान डेविड करमी इस किताब की प्रतियां अपनी क्लिनिक में रखने लगे.

उन्होंने अपने कुछ रोगियों को इसे पढ़ने की सलाह भी दी. वे कहते हैं, ''वैसे लोग जो धार्मिक माहौल में बड़े हुए हैं और जिन्हे यौन शिक्षा नहीं मिली है, उनके लिए यह किताब बहुत उपयोगी है.''

यौन शिक्षा

सेक्स रुढ़िवादी और अति रुढ़िवादियों के वैवाहिक जीवन का एक बुनियादी तत्व है, जो खूब बच्चे पैदा करना चाहते हैं. लेकिन अधिकांश अति रूढ़िवादी बच्चे विशेष धार्मिक स्कूलों पढ़ते हैं, जहां उन्हें यौन शिक्षा नाममात्र की या दी ही नहीं जाती है.

रिबनर की यह क़िताब पिछले साल अंग्रेजी में प्रकाशित हुई थी. अब यह किताब हिब्रू भाषा में भी आने वाली है. इसके बाद यह इसराइली लोगों के लिए और सुलभ होगी.

इसराइल के अति रूढ़िवादी समाज के लिए कई किताबें लिख चुके समाजशास्त्री मेनाचेन फ्रीडमैन कहते हैं कि हिब्रू भाषा में जब यह किताब अगले कुछ हफ़्ते में आएगी, यह तूफ़ान खड़ा कर सकती है.

लेकिन वे इस बात से सहमत हैं कि इस तरह की किताब की सख्त जरूरत है. उन्हें उम्मीद है कि काउंटर के पीछे से यह किताब खूब बिकेगी भी.

संबंधित समाचार