पेप्सिको ने 'नस्लवादी विज्ञापन' वापस लिया

पेप्सिको के नश्ली भेदभाव और महिला हिंसा का मजाक बनाने वाले विज्ञापन पर हुआ विवाद
Image caption पेप्सिको के नश्ली भेदभाव और महिला हिंसा का मजाक बनाने वाले विज्ञापन पर हुआ विवाद

अमरीका की सॉफ्ट ड्रिंक बनाने वाली कंपनी पेप्सिको ने विवाद के बाद कथित तौर पर नस्ली भेदभाव दर्शाने वाले एक विज्ञापन को वापस ले लिया.

इस विज्ञापन की काफ़ी आलोचना हो रही थी और कहा जा रहा था कि ये विज्ञापन महिलाओं के खिलाफ होने वाली हिंसा का मजाक उड़ाता है.

इस ऑनलाइन विज्ञापन में एक गोरी महिला को दिखाया गया है. जिन्हें काफी चोट लगी है.

वो बैसाखियों के सहारे चल रही है. उनके साथ में एक पुलिस है जो उनसे दोषियों की पहचान करने के लिए कहता है. सामने कतार में एक काला आदमी और बकरी खड़ी हैं.

विवाद की वजह

एक ब्लॉगर ने 60 सेकेंड के वीडियों के बार में लिखा है कि यह विज्ञापनों के इतिहास में सबसे खराब नस्ली भेदभाव वाला विज्ञापन है.

वीडियो में बकरी गोरी महिला को धमकाती है और कहती है कि अगर उन्होंने उसे पहचाना तो वो उनकी पिटाई करेगी.

अचनाक से महिला डर के मारे चीखती है और वापस भाग जाती है. इसके बाद के संवाद में माउंटेन ड्यू के प्रमोशन वाली पंक्ति आती है “ड्यू इट”.

बुद्धवार को पेप्सिको ने विज्ञापन से लोगों को होने वाली तकलीफ की जिम्मेदारी ली है. कंपनी ने कहा कि विज्ञापन को उसके ऑनलाइन चैनल से हटा दिया गया है. विज्ञापन अमरीकन-अफ्रीकन रैपर टेलर द क्रिएटर ने बनाया था.

संबंधित समाचार