सबसे कामयाब कोच का करिश्मा नहीं दिखेगा

Image caption मैनचेस्टर यूनाइटेड क्लब के कोच का पद छोड़ रहे हैं एलेक्स फर्ग्यूसन

मैनचेस्टर यूनाइटेड और एलेक्स फर्ग्यूसन का लगभग 27 साल पुराना साथ अब टूटने वाला है. एलेक्स फर्ग्यूसन इतने लंबे समय से दुनिया के सबसे बड़े फ़ुटबॉल क्लब के मैनेजर और कोच के तौर पर काम कर रहे थे.

क्लब की ओर से कहा गया है कि फर्ग्यूसन अब सेवानिवृत हो रहे हैं. यानि मैनचेस्टर यूनाइटेड के फ़ुटबॉल मैचों के दौरान फर्ग्यूसन नहीं दिखेंगे.

फर्ग्यूसन ने एक वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में कहा है, “सेवानिवृत होने का फ़ैसला मेरे लिए बहुत मायने रखता है और मैं ने इस पर काफी सोच विचार किया है लेकिन मुझे लगता है कि यही सही समय है.”

वे मैनचेस्टर यूनाइटेड क्लब की देखभाल 1986 से कर रहे थे और इस सीजन में भी उनका क्लब इंग्लिश प्रीमियर लीग का चैंपियन रहा है.

सबसे कामयाब कोच

एलेक्स फर्ग्यूसन को दुनिया के सबसे कामयाब फ़ुटबॉल मैनेजर और कोच के तौर पर मशहूर हैं और उनकी विरासत को दोहरा पाना बेहद मुश्किल माना जा रहा है.

फर्ग्यूसन के मैनचेस्टर यूनाइटेड से जुड़ने के बाद टीम ने तेरह बार लीग टाइटिल का ख़िताब जीता और पांच बार फ़ुटबॉल एसोसिएसन कप की चैंपियन बनीं.

हालांकि उन्हें हमेशा इस बात का अफसोस रहा है कि उनकी देखरेल में क्लब महज दो बार 1999 और 2008 में यूरोपियन चैंपियनशिप लीग का ख़िताब जीत सकी.

हालांकि खेल की दुनिया में उन्हें सबसे बेहतरीन प्रशिक्षक का दर्जा हासिल है. उनसे किसी ने पूछा, “आपके लिए सबसे बड़ी चुनौती क्या रही है?” तो उनका जवाब था, “बदलाव से तालमेल बिठाना.”

दरअसल फर्ग्यूसन ने हमेशा मैनचेस्टर यूनाइटेड को हमेशा जीत के लिए प्रेरित किया.

उन्होंने मैनचेस्टर के ट्रैफोर्ड स्टेडियम में खुद घंटों पसीना बहाया. नए सिरे से टीम तैयार की और टीम में बदलाव करने में वक्त भी नहीं लगाया.

उन्होंने युवा खिलाड़ियों को वक्त पर मौके दिए तो वहीं अनुभवी खिलाड़ियों के महत्व कभी नजरअंदाज़ नहीं किया.

जीतने का मंत्र

दरअसल हमेशा जीत हासिल करना फर्ग्यूसन का इकलौता मंत्र रहा.

हालांकि 6 नवंबर, 1986 में मैनचेस्टर यूनाइटेड का कार्यभार संभालने के बाद शुरुआती सालों में फर्ग्यूसन को एक तरह से नाकामी का सामना करना पड़ा.

लेकिन उन्होंने मैनेचेस्टर यूनाइटेड के साथ बड़े फ़ुटबॉलर को जोड़कर और एक टीम के तौर पर उसे प्रशिक्षित कर कामयाबी के शिखर तक पहुंचा दिया.

फर्ग्यूसन के कोचिंग और प्रबंधन का ही नतीजा रहा कि मैनचेस्टर यूनाइटेड दुनिया की दूसरी सबसे ज्यादा पैसे वाली टीम बन गई.

फोर्ब्स के आंकड़ों के मुताबिक मैनचेस्टर यूनाइटेड की ब्रैंड वैल्यू 3.2 अरब डॉलर आंकी गई है. ब्रैंड वैल्यू के लिहाज से मैनचेस्टर यूनाइटेड की टीम महज रियाल मैड्रिड से ही कमतर है.

Image caption फर्ग्यूसन के कार्यकाल में मैनचेस्टर यूनाइटेड ने कामयाबी का इतिहास बनाया

टीम से इतने लंबे समय के बाद विदाई ले रहे फर्ग्यूसन ने भरोसा जताया है कि टीम आने वाले दिनों में बेहतर प्रदर्शन करेगी.

उन्होंने कहा, “मेरे लिए अहम ये रहा कि मैं टीम का साथ तब छोड़ू जब टीम अच्छी स्थिति में हो. मैं ऐसा करने में कामयाब रहा. मुझे उम्मीद है कि आने वाले दिनों में टीम कई कामयाबियां हासिल करेगी.”

कौन होगा अगला कोच

वैसे अब इस बात को लेकर कयासबाजी शुरू हो गई कि फर्ग्यूसन के बाद मैनचेस्टर यूनाइटेड का कोच कौन होगा. अब तक आ रही ख़बरों के मुताबिक रियाल मैड्रिड के कोच जोसे मोरिन्हो पाला बदलकर मैनचेस्टर यूनाइटेड का दामन थाम सकते हैं.

इनके अलावा मैनचेस्टर यूनाइटेड के कोच के तौर पर दूसरे दावेदार डेविड मोयस भी हो सकते हैं जो इस वक्त इंग्लिश प्रीमियर लीग में एवर्टन टीम के कोच हैं.

माना जा रहा है कि मोयस को फर्ग्यूसन का समर्थन हासिल है और उन्हें निवेशकों का समर्थन भी मिल सकता है.

एलेक्स फर्ग्यूसन ने कहा है कि वे टीम का साथ जरूर छोड़ रहे हैं लेकिन मैनचेस्टर यूनाइटेड के एंबैसडर और डायरेक्टर बने रहेंगे.

71 साल के फर्ग्यूसन को उनके योगदान के लिए ही ब्रिटेन में नाइट की उपाधि मिली.

संबंधित समाचार