लूमिया 925 बचा पाएगा नोकिया के डूबते साम्राज्य को?

Image caption नोकिया का सबसे बड़ा कारोबारी दांव है लूमिया 925

नोकिया ने अपना सबसे दमदार विंडो फ़ोन लूमिया 925 को बाजार में उतारा है. इस फ़ोन की सबसे बड़ी ख़ासियत ये बताई जा रही है कि इसका स्मार्ट कैमरा एक साथ दस तस्वीरें खींच पाएगा.

लेकिन सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या ये फ़ोन नोकिया के ढहते किले को संभालने में मददगार होगा?

( नोकिया का लूमिया 925- तस्वीरों में)

रिसर्च कंपनी गार्टनर के मुताबिक फ़िनलैंड की मोबाइल कंपनी नोकिया का फ़ोन मार्केट शेयर 2013 के पहली तिमाही में करीब 5 फ़ीसदी कम हुआ है.

नोकिया ये दावा कर रही है कि लूमिया 925 में दुनिया की सबसे आधुनिकतम तकनीक और सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया गया है.

स्मार्ट कैम के सहारे दस तस्वीरें एक साथ खिंची जाएगी जिसे इस्तेमाल करने वाला अपनी पसंद के फ़ोटो चुन जाएगा.

नोकिया ने अपने इस फ़ोन की कैमरा तकनीक को बेहतर बनाने के लिए काफी निवेश किया है.

लेकिन इसके बावजूद तकनीकी विशेषज्ञ ये मान रहे हैं कि इसका कैमरा बहुत बेहतर नहीं है. क्योंकि इसमें महज 8.7 मेगापिक्सल के कैमरे का इस्तेमाल किया गया है.

कैमरा कितना बेहतर

जबकि सैमसंग एस4 में 13 मेगापिक्सल के कैमरे का इस्तेमाल किया गया है. इसके अलावा ये भी कहा जा रहा है कि कैमरे के मामले में लूमिया 925 एपल आईफ़ोन को भी टक्कर नहीं दे पाएगा.

हालांकि कुछ विश्लेषक ये मानते हैं कि लूमिया 925 डिजाइन के मामले में बेहतर हैं. एडवर्टाइजिंग कंपनी बिल्समीडिया के प्रबंध निदेशक पॉल थॉम्पसन के मुताबिक लूमिया 925 ग्रेट लुकिंग फ़ोन है.

( क्या आपके पास ये बीस जादुई एंड्रॉयड ऐप्स हैं?)

हालांकि थॉम्पसन ये भी कहते हैं कि डिजाइन के मामले में लूमिया 925 आईफ़ोन और एचटीसी से बेहतर भी नहीं है, लगभग बराबरी पर है.

बताया जा रहा है कि मोबाइल फ़ोन के बाजार में 2013 के पहले तिमाही में स्मार्ट फ़ोन की मांग 0.7 फीसदी बढ़ी है. ये बढ़ोत्तरी एशिया पैसिफिक रीजन में स्मार्ट फ़ोन की बढ़ती मांग के चलते दर्ज हुई है.

सैमसंग सबसे आगे

Image caption सैमसंग बाजार में 23.6 फीसदी की हिस्सेदारी के साथ बाज़ार में काबिज है.

लेकिन इसके सबसे ज़्यादा फ़ायदा सैमसंग ने उठाया है. सैमसंग बाजार में 23.6 फीसदी की हिस्सेदारी के साथ बाज़ार में काबिज है. जबकि इस बाज़ार में नोकिया की हिस्सेदारी 14.8 फ़ीसदी है. इस बाज़ार में तेजी से एपल भी अपनी जगह मजबूत कर रहा है. एपल की हिस्सेदारी 9 फ़ीसदी है. दरअसल पिछले एक साल के दौरान मोबाइल फ़ोन के बाज़ार में सबसे ज़्यादा नुकसान नोकिया को उठाना पड़ा है.

वैसे नोकिया की ओर से कहा गया है कि लूमिया 925 के मुताबिक ये फ़ोन तकनीकी चीजों को पसंद करने वाले लोगों को ध्यान में रखकर उतारा है.

4.5 इंच के डिस्पले स्क्रीन के चलते यह एपल के आईफ़ोन 5 से बेहतर भी बताया जा रहा है.

इसके अलावा जानकारों की राय ये भी है कि नोकिया को इस फ़ोन को कुछ और रंगों में उपलब्ध कराना चाहिए. ये फ़िलहाल ब्लैक, सिल्वर और व्हाइट कलर में भी उपलब्ध होगा.

हालांकि शुरुआती आकलन ये बता रहा है कि लूमिया 925 सबसे स्लिक फ़ोन है. लेकिन क्या इसका जादू चल पाएगा.

( बीबीसी हिन्दी एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार