कोरोना वायरस एक से दूसरे इंसान में फैलता है

कोरोनावायरस
Image caption कोरोनावायरस इंसान और जानवर दोनों में सांस संबंधी संक्रमण के लिए जाना जाता है.

अब से कुछ महीने पहले तक ये मालूम नहीं था कि कोरोना वायरस एक इंसान से दूसरे इंसान में फैलने वाला वायरस है. मगर अब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस बात की पूरी संभावना व्यक्त कर दी है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हाल ही में जारी अपने बयान में कहा है कि कोरोना वायरस बेहद नजदीकी संपर्क में रहने वाले दो इंसानों में एक से दूसरे में संक्रमित हो सकता है.

फ्रांस के स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस वायरस से संक्रमित एक और व्यक्ति की पहचान की है. मंत्रालय ने इस व्यक्ति के वायरस से संक्रमित होने का संभावित कारण इंसान का इंसान से संपर्क माना है.

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार सऊदी अरब में इस वायरस से दो और लोगों के संक्रमित होने की खबर है.

आमतौर पर कोरोना वायरस को निमोनिया और कभी-कभी किडनी फेल होने का कारण माना गया है.

तेजी से फैलने वाला

माना जा रहा है कि यह नया कोरोना वायरस जानलेवा और तेजी से फैलने वाला वायरस है. डब्ल्यूएचओ अधिकारियों ने इस खतरनाक वायरस के प्रति अपनी चिंता जाहिर की है.

कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों की बात की जाए तो डब्ल्यूएचओ की ताजा रिपोर्ट के अनुसार साल 2012 से अब तक यूरोप और मध्य पूर्व में इस वायरस से संक्रमित होने वाले मरीजों की संख्या 33 तक पहुंच गई है. इन संक्रमित मरीजों में से 18 की मौत हो चुकी है.

इस खतरनाक वायरस के रोगियों की संख्या सऊदी अरब और जार्डन में ही नहीं अब जर्मनी, ब्रिटेन और फ्रांस में भी बढ़ रही है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपने बयान में कहा है, “सबसे अधिक चिंताजनक बात यह है कि अलग-अलग देशों में मरीजों के अलग-अलग समूहों की गहन पड़ताल से यही बात पुष्ट होती है कि यह नया वायरस नजदीकी संपर्क के कारण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है.”

मगर विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा जारी बयान में आगे कहा गया है, “अब तक यह देखने में आया है कि एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलने वाला यह वायरस कुछ छोटे समूहों तक ही सीमित रहा है और अब तक इस बात के पुख्ता सबूत नहीं मिले हैं जिससे पता चले कि यह समुदाय में व्यापक रूप से फैलने की क्षमता रखता है.”

कोरोना वायरस से संक्रमित दूसरे रोगी की पुष्टि फ्रांस में हुई है. यह रोगी 50 साल का एक बुजुर्ग है.

बताया जाता है कि 50 साल के ये बुजर्ग ऊत्तरी फ्रांस के एक अस्पताल में 65 साल के एक बीमार बुजुर्ग के साथ एक ही कमरे में अपना इलाज करवा रहे थे. 65 साल के ये बुजुर्ग दुबई से आने के बाद वायरस से पीड़ित होने के कारण इस अस्पताल में भर्ती थे.

फ्रांस स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया, “दोनों मरीजों में वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई.” मंत्रालय ने आगे यह भी बताया कि दोनों बुजर्गों का इलाज ‘आइसोलेशन वार्ड’ में किया जा रहा था.

रायटर्स की रिपोर्ट के अनुसार सऊदी अरब स्वास्थ्य मंत्रालय के उप मंत्री ने जानकारी दी है कि कोरोना वायरस से दो और लोगों की जान चली गई है. इस तरह सऊदी अरब के पूर्व में स्थित अल-अहसा में हाल ही में फैले वायरस के इस प्रकोप में मरने वालों की संखया बढकर नौ हो गई है.

सऊदी अरब स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार पिछली गर्मी से अब तक इस वायरस से पीड़ित करीब 24 मरीजों की पुष्टि हुई है जिसमें से 15 की मौत हो चुकी है.

हालांकि डब्ल्यूएचओ के अधिकारियों ने कोरोना वायरस से अभी अभी हुई मौत की अब तक पुष्टि नहीं की है.

कहां से आया वायरस?

इंग्लैंड में एक ही परिवार के तीन सदस्य किसी वायरस से संक्रमित हो गए. इसमें से एक सदस्य की मौत बर्मिंघम अस्पताल में हो गई.

अनुमान लगाया गया कि मध्य पूर्व और पाकिस्तान की अपनी यात्रा के दौरान इस परिवार का एक सदस्य कोरोना वायरस से संक्रमित हुआ.

यह नया कोरोना वायरस वायरसों के उसी समूह से आता है जिसकी वजह से एशिया में 2003 में सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (सार्स) एक महामारी के रुप में सामने आया था.

वैसे डब्ल्यूएचओ ने अपने एक बयान में बताया कि सार्स और कोरोना वायरस दोनों एक दूसरे से पूरी तरह भिन्न हैं. कोरोना वायरस बड़े वायरस परिवार का हिस्सा है जिसमें आम सर्दी-जुकाम और सार्स जैसे वायरस शामिल है.

कोरोना वायरस इंसान और जानवर दोनों में सांस संबंधी संक्रमण के लिए जाना जाता है.

मगर यह अब तक साफ नहीं हुआ है कि कोरोना वायरस पहले से मौजूद किसी वायरस का बदला हुआ रूप है या, किसी संक्रमित जानवर से इंसान में पहुंचा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार