एक करोड़ के मोबाइल बिल का झटका....

मोबाइल फ़ोन
Image caption मज़कौरी दंपति ये बिल देखकर सदमे में आ गया

कई बार पानी और बिजली के कुछ बढ़े बिल अच्छे-अच्छों की नींद उड़ा देते हैं, लेकिन बात जब एक करोड़ से ज़्यादा के मोबाइल फोन बिल की हो, तो सदमा तो लगना ही था.

ब्रिटेन के एक इलेक्ट्रीशियन और उनकी पत्नी को जब मोबाइल फ़ोन के एक महीने का बिल एक लाख 63 हज़ार पाउंड यानी क़रीब एक करोड़ 35 लाख रुपए का मिला, तो उनकी आँखें खुली की खुली रह गईं.

पहले तो उन्हें सदमा सा लगा, लेकिन फिर उन्होंने संघर्ष करने की ठानी. महीनों तक चली ये लड़ाई आख़िरकार रंग लाई.

पंद्रह वर्षों से स्वांजी के एलेन और कार्लोइन मज़कौरी का मोबाइल सेवा देने वाली औरेंज कंपनी के साथ 10 मोबाइल फ़ोन का बिजनेस डील था.

बीबीसी के वॉचडॉग कार्यक्रम में उन्होंने बताया कि सामान्य तौर पर उनके मोबाइल फ़ोन्स का बिल क़रीब तीन सौ पाउंड यानी क़रीब 25 हज़ार रुपए प्रति महीने आता था. लेकिन पिछले साल सितंबर में तो उस समय उनकी हैरानी की सीमा नहीं रही, जब लाखों का बिल उनके पास पहुँचा.

लड़ाई

महीनों तक चली लड़ाई के बाद अब औरेंज कंपनी ने माफ़ी मांगी है और पैसा वापस करने का वादा किया है.

मज़कौरी का औरेंज कंपनी के साथ जो अनुबंध था, उनमें उनका बिजनेस फोन और उनके कर्मचारियों के फोन शामिल थे.

पिछले साल गर्मियों में उन्होंने अपने फोन की शिकायत की. उनका फोन कुछ ज़्यादा गर्म हो जा रहा था. आख़िरकार उस दुकान ने उनका वो फ़ोन बदल दिया, जहाँ से उन्होंने फोन खरीदा था.

इसके कुछ समय बाद उनके फ़ोन का कनेक्शन कट गया और मज़कौरी दंपति को ये सूचना दी गई कि उनका बिल बहुत ज़्यादा आया है.

भेजे गए बिल से ये पता चला कि मज़कौरी के फ़ोन से इंटरनेट डेटा डाउनलोड किया गया है और ऐसा तीन सप्ताह तक हर 20वें मिनट में किया गया है.

ये डेटा डाउनलोड 50 लाख ईमेल या 15 हज़ार गाने डाउनलोड करने के बराबर था. इस कारण उन्हें 163,178.86 पाउंड यानी क़रीब एक करोड़ 35 लाख रुपए का बिल भेजा गया.

एलेन मज़कौरी ने बीबीसी को बताया कि इस पूरे मामले ने उनके और उनके परिवार को काफ़ी परेशान रखा. उन्होंने बताया कि वे तकनीकी रूप से इतने सिद्धहस्त नहीं हैं और उन्हें तो एक एसएमएस भेजने में दिक्कत होती है और यहाँ तो मामला इतने बड़े पैमाने पर डेटा डाउनलोड करने का था.

मुश्किल समय

Image caption एलेन मज़कौरी इलेक्ट्रीशियन का काम करते हैं

उन्होंने बताया कि औरेंज कंपनी इस बिल को रद्द करने पर सहमत हो गई, लेकिन अगले सात महीने तक उन्हें बिल भेजे गए.

वे औरेंज कंपनी से संपर्क कर-करके काफ़ी हताश-परेशान हो गए और उनके परिवार के लिए ये काफ़ी मुश्किल भरा समय रहा. पूरे मामले से तंग आकर उन्होंने एक सॉलिसिटर को कंपनी से संपर्क करने को कहा.

अब औरेंज कंपनी ने पूरा बिल रद्द कर दिया है और मज़कौरी को 250 पाउंड यानी क़रीब 21 हज़ार रुपए का हर्जाना देने की भी पेशकश की है.

औरेंज के एक प्रवक्ता ने बताया, "हमने मज़कौरी परिवार से माफ़ी मांगी है. हमने उनका बिल रद्द कर दिया है और मुआवज़ा भी देने की पेशकश की है. हमें उनके जवाब का इंतज़ार है."

लेकिन इस पूरे मामले से हताश-परेशान हो चुके एलेन मज़कौरी का कहना है कि वो अब मोबाइल सेवा देने वाली कंपनी को बदल रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार