'सीरिया में जहरीली गैस का इस्तेमाल हुआ'

गैस
Image caption सरकार और विद्रोही दोनों एक दूसरे पर ज़हरीली गैस के इस्तेमाल का आरोप लगाते हैं.

फ्रांस और ब्रिटेन की सरकारों ने कहा है कि उनके पास सीरिया में रसायनिक ज़हरीली गैस सारिन के इस्तेमाल होने के पुख्ता सबूत हैं.

फ्रांस के विदेश मंत्री ने कहा है कि सीरियाई सरकार द्वारा एक मामले में तो विद्रोहियों के खिलाफ़ सारिन के इस्तेमाल की पुष्टि हो गई है.

लोरोंग फैबियुस ने कहा कि पेरिस की प्रयोगशाला में हुई जांच में इस बात की पुष्टि हो गई है कि लड़ाई में तंत्रिका को नुक़सान पहुँचाने वाली गैस का प्रयोग किया गया था.

मामले के बारे में ज़्यादा जानकारी देते हुए फैब्युस ने कहा कि अप्रैल में सीरिया के उत्तरी शहर साराक़ेब में सरीन गैस के हमले के पीड़ितों के खून और मूत्र की फ्रांसिसी प्रयोगशालाओं में जांच में सरीन गैस पाई गई.

विदेश मंत्री ने बताया कि जांच रिपोर्ट के नतीजे संयुक्त राष्ट्र को सौंपे जा चुके हैं. उन्होंने कहा कि जो लोग रसायनिक हथियारों के इस्तेमाल के लिए ज़िम्मेदार हैं उन्हें सज़ा मिलनी चाहिए.

हथियार

इससे पहले संयुक्त राष्ट्र मानवधिकार संस्था की तरफ़ से जांचकर्ताओं ने मंगलवार को कहा था कि "इस बात पर यक़ीन करने की बहुत सारी वजहें हैं" कि वहां गैस का इस्तेमाल किया गया.

संयुक्त राष्ट्र ने विदेशी शक्तियों से अपील की थी कि वो सीरिया की लड़ाई में किसी पक्ष को हथियार देने से बचें.

जांचकर्ताओं ने कहा था कि इसका प्रयोग दोनों पक्षों ने किया है.

उधर अमरीका और ब्रिटेन ने कहा है कि इस बात के सबूत सामने आ रहे हैं कि सीरियाई सुरक्षाबलों ने सारिन गैस का इस्तेमाल किया है. लेकिन अमरीका ने ये भी कहा है कि सीरिया में सरीन गैस के इस्तेमाल की आधिकारिक घोषणा करने से पहले उसे और ज़्यादा सबूत चाहिए.

सीरिया में पिछले दो सालों से लड़ाई जारी है. जहां विद्रोही ये दावा करते रहे हैं कि राष्ट्रपति बशर अद असद की सरकार लोगों के खिलाफ़ भयानक बल प्रयोग कर रही है.

वहीं विद्रोहियों के हाथों भी हिंसा और युद्ध अपराध जैसे मामले सामने आए हैं.

(क्या आपने बीबीसी हिन्दी का नया एंड्रॉएड मोबाइल ऐप देखा? डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें. आप ख़बरें पढ़ने और अपनी राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने पर भी आ सकते हैं और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार