हाथ भी न लगाया और विश्व रिकॉर्ड बन गया

गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स
Image caption जापान के संगीतकारों के नाम हुआ रिकॉर्ड

जापान के संगीतकारों ने एक अनूठा विश्व रिकॉर्ड बनाया है और वो भी अपने वाद्ययंत्र को छुए बिना.

ये रिकॉर्ड थेरेमिन वाद्ययंत्र के साथ बनाया गया है जिसे दुनिया के सबसे पुराने इलेक्ट्रोनिक वाद्ययंत्रों में से एक माना जाता है. इसे बजाने के लिए छूने की जरूरत नहीं पड़ती है.

देखिए: कैसे बजाते हैं थेरेमिन

जापान के हामामात्सु शहर में एक कंसर्ट के दौरान 272 लोगों ने एक साथ थेरेमिन बजा कर ये विश्व रिकॉर्ड बनाया है.

इस कंसर्ट का आयोजन मासामी ताकेऊचिया ने कराया जिन्होंने रूस में थेरेमिन बजाना सीखा था. दरअसल रूस में ही 100 साल पहले लियोन थेरेमिन ने इस वाद्ययंत्र का आविष्कार किया था.

गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के प्रवक्ता ने पुष्टि की है कि हामामात्सु शहर में 272 लोगों ने एक साथ थेरेमिन बजाकर नया रिकॉर्ड बनाया है.

क्या है थेरेमिन

Image caption थेरेमिन एक अदभुत वाद्ययंत्र है

थेरेमिन इस लिए अनूठा वाद्ययंत्र है क्योंकि इसे बजाने के लिए छूने की जरूरत नहीं पड़ती है.

दरअसल इनमें एंटीना लगे होते हैं और इसे बजाने के लिए आपको अपने हाथ उसके इन एंटीना के पास ले जाने पड़ते हैं. इनमें एक लूप एंटीना होता है जिससे उसकी ध्वनि को नियंत्रित किया जाता है.

अगर आप हाथ को इस एंटीना के करीब लाते हैं तो उसकी आवाज़ तेज़ होने लगती है और उसके नज़दीक जाने वाल आवाज हल्की पड़ने लगती है.

थेरेमिन के दायीं तरफ एक ऊर्ध्वाधर एंटीना होता है. इससे वाद्ययंत्र की पिच बदलती है. एंटीना के पास जाने पर पिच बढ़ने लगती है जबकि दूर जाने वो घटती है.

इस यंत्र को बजाने में आपके कान बहुत अहम भूमिका निभाते हैं. आप जैसा सुनना चाहते हैं, हाथों को वैसे ही गतिशीलता देनी होगी.

सबसे पहले बनाए गए थेरेमिन को 1922 में लिओन थेरेमिन के साथ सोवियत संघ के नेता व्लादिमीर लेनिन ने भी बजाने का प्रयास किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार